17 February 2019

जम्मू कश्मीर: पुलवामा हमले के बाद अब जम्मू-कश्मीर के रजौरी में नियंत्रण रेखा के पास सेना का एक अधिकारी शहीद


जम्मू कश्मीर:  पुलवामा हमले के बाद अब जम्मू-कश्मीर के रजौरी में नियंत्रण रेखा के पास सेना का एक अधिकारी शहीद, एक जवान घायल | Rajouri LOC News | जम्मू राजौरी न्यूज़ | IED ब्लास्ट | एक मेजर शहीद | राजौरी की ताज़ा ख़बर | ब्रेकिंग न्यूज़ | मेजर चित्रेश बिष्ट


rajauri attack
rajouri blast news


जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले की आग अभी बुझी भी नहीं कि रजौरी में एक अन्य आईडी ब्लास्ट की खबर आई हैं। बताया जा रहा हैं कि रजौरी में एक आईडी ब्लास्ट हुआ हैं, जिसमें सेना के एक अधिकारी शहीद हो गए हैं। इस हमले के पीछे का कारण अभी पता नहीं चल पाया हैं। बताया जा रहा हैं कि आईडी को प्लांट किया गया था, जिसे डिफ्यूज करने के दौरान अफसर शहीद हो गए। वहीं समाचार एजेंसी भाषा के अनुसार, एक जवान घायल हो गया हैं। हालांकि, सेना की ओर से अभी तक कोई औपचरिक सूचना नहीं आई हैं।
पुलवामा में CRPF जवानों पर हुए हमले से अभी देश उबरा भी नहीं की शनिवार को सीमा के पास सेना के एक एवं अधिकारी के शहीद होने की खबर आयी हैं। रक्षा विभाग के प्रवक्त लेफ्टिनेंट कर्नल देवेन्द्र आनंद ने बताया कि जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा के पास एक आईईडी विस्फोट में सेना का एक अधिकारी शहीद हो गया जबकि एक सैनिक घायल हुआ हैं। यह विस्फोट राजौरी के नौशेरा सेक्टर के लाम इलाके में हुआ।
दरअसल, इस घटना को लेकर पहले ऐसी सूचना मिली थी कि इस घटना के पीछे  पाकिस्तानी बैट का हाथ हो सकता हैं। बता दें कि पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम यानी कि बैट ऐसी टीम हैं जिसमें पाक सेना एवं आतंकी दोनों होते हैं। इनका काम मौका मिलते ही एलओसी पर भारतीय सेना के जवानों पर घात लगाकर हमला करना होता हैं। सीमा पर जितने भी जवानों के शव के साथ छेड़छाड़ हुई हैं उसके पीछे बैट का ही हाथ होता हैं।

कौन हैं राजौरी में शहीद होने वाले आर्मी अधिकारी?

rajouri loc news
major chitresh bist
शहीद होने वाले भारतीय सेना ऑफिसर का नाम मेजर चित्रेश बिष्ट हैं। उत्तराखंड के रहनेवाले मेजर बिष्ट रिटायर्ड इंस्पेक्टर एस एस बिष्ट के बेटे थे। उनका शादी इस साल मार्च में हुआ था। वह नेहरू कॉलोनी में परिवार समेत रहते थे। वर्ष 2010 में IMA से पास आउट हुए थे।
खबरों के अनुसार, आतंकियों की तरफ से प्लांट किए गए आईईडी विस्फोटक को डिफ्यूज करते वक्त यह घटना हुई। इसमें मेजर रैंक के एक सेना के अफसर शहीद हो गए। अधिकारी इंजीनयर कॉर्प्स के थे। जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा के डेढ़ किलोमीटर अंदर आईईडी विस्फोटक को प्लांट किया गया था।
इससे पहले गुरुवार को CRPF का काफिला जम्मू से श्रीनगर जा रहा था। इस काफिले में करीब 78 गाड़ियां थीं एवं 2500 जवान शामिल थे। उसी दौरान बाईं ओर से ओवरटेक कर विस्फोटक से लदी एक कार आई एवं उसने CRPF की बस में टक्कर मार दी। आतंकवादी ने जिस कार से टक्कर मारी थी, उसमें करीब 60 किलो विस्फोटक थे। इसकी वजह से विस्फोट इतना घातक हुआ कि इसमें 40 जवान शहीद हो गए। इस घटना पर पीएम मोदी ने सीधे तौर पर कहा हैं कि आतंकी बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं एवं अब उन्हें इसका अंजाम भी भुगतना होगा। 
इससे पहले पुलवामा में गुरूवार की दोपहर को CRPF काफिले में एक आत्मघाती हमलावर ने सौ किलो विस्फोटक से भरी गाड़ी से टक्कर मार दी थी। जिसके बाद करीब 40 जवान शहीद हो गए। इस घटना ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया हैं एवं देशभर में गुस्सा देखा जा रहा हैं। इस घटना पर पीएम मोदी ने कहा कि जवानों के खून के हर कतरे का जवाब लिया जाएगा। पीएम ने पाकिस्तान का बिना नाम लिए कहा कि उसने बड़ी गलती कर दी।
इससे पहले, 11 जनवरी को भी राजौरी में हुआ था हमला इससे पहले 11 जनवरी को राजौरी जिले के नौशेरा में ही IED ब्लास्ट हुआ था। इस धमाके में सेना का एक अफसर एवं एक जवान शहीद हो गए थे। आतंकवादियों ने लाम सेक्टर में सीमा पर गश्त कर रहे सैनिको को निशाना बनाकर नियंत्रण रेखा से लगे मार्ग में आईईडी लगा रखा था।

No comments:

Post a Comment

Enter you Email