12 October 2019

शरद पूर्णिमा व्रत 2019 | शरद पूर्णिमा पूजा शुभ मुहूर्त | शरद पूर्णिमा कब है | चंद्रोदय का समय कब है | Sharad Purnima Vrat

शरद पूर्णिमा व्रत 2019 | शरद पूर्णिमा पूजा शुभ मुहूर्त | शरद पूर्णिमा कब है | चंद्रोदय का समय कब है | Sharad Purnima Vrat

sharad purnima 2019
sharad purnima ka vrat

शरद पूर्णिमा की रात्रि माता लक्ष्मी जी को मनाने का मंत्र

ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं कमले कमलालये।
        प्रसीद प्रसीद श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नमः॥


शरद पूर्णिमा का स्‍थान हिन्दू धर्म में अत्यंत महत्वपूर्ण हैं। यह पूर्णिमा अन्‍य पूर्णिमा की तुलना में अति लोकप्रिय हैं। जिस रात्री आकाश से चंद्रमा अपनी 16 कलाओं से युक्त होकर धरती पर अमृत बरसाता हैं, उसी आश्विन मा के शुक्लपक्ष की पूर्णिमा को शरद पूर्णिमा कहा जाता हैं। शरद पूर्णिमा को रास पूर्णिमा भी कहा जाता हैं।
शरद पूर्णिमा के दिवस चंद्रमा, माता लक्ष्मी तथा भगवान विष्णु जी के पूजन करने का विधान हैं। कहा जाता हैं कि शरद पूर्णिमा का व्रत करने से व्रती की प्रत्येक मनोकामनाएं शीघ्र ही पूर्ण हो जाती हैं तथा संतानों को लंबी आयु का वरदान भी प्राप्त होता हैं। मान्यता हैं कि शरद पूर्णिमा की रात चन्द्रमा अपनी 16 कलाओं से परिपूर्ण होकर, आसमान से अमृत की बरसात करता हैं। माना जाता हैं कि 16 कलाओं वाला पुरुष ही सर्वोत्तम पुरुष हैं। कहा जाता हैं कि भगवान श्री विष्‍णु जी के अवतार श्रीकृष्‍ण 16 कलाओं के साथ अवतरित हुये थे, एवं भगवान श्रीराम के पास 12 कलाएं थीं। साथ ही शरद पूर्णिमा के पर्व पर खीर बनाकर उसे आकाश के नीचे रखने की भी परंपरा हैं, अतः इस रात्रि में खीर को खुले आकाश में रखा जाता हैं तथा 12 बजे के पश्चात उसे प्रसाद के रूप में ग्रहण किया जाता हैं। ऐसी मान्‍यता हैं कि इस खीर में आकाश से गिरने वाला अमृत आ जाता हैं तथा यह खीर कई प्रकार के रोगों को नष्ट करने की शक्ति रखती हैं। एक प्रमुख बात यह भी हैं कि शरद पूर्णिमा की रात्रि, चंद्रमा पृथ्वी के सर्वाधिक निकट आ जाता हैं।
  

शरद पूर्णिमा व्रत का शुभ मुहूर्त

इस वर्ष, शरद पूर्णिमा के लिए पूर्णिमा तिथि का प्रारम्भ 13 अक्तूबर, रविवार की दोपहर 12 बजकर 36 मिनिट पर होगा। तथा पूर्णिमा तिथि का समापन 14 अक्तूबर, सोमवार की दोपहर 02 बजकर 38 मिनिट पर होगा।
अतः इस वर्ष, 2019 में, शरद पूर्णिमा का व्रत 13 अक्तूबर, रविवार के दिन किया जाएगा।

शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रोदय का समय 13 अक्तूबर, रविवार की संध्या 06 बजकर 03 मिनिट पर होगा।
भगवान जी को भोग लगाने का शुभ समय मध्यरात्रि 12 बजे का रहेगा।

08 October 2019

पापांकुशा एकादशी कब हैं 2019 | एकादशी तिथि व्रत पारण का समय | तिथि व शुभ मुहूर्त | Papankusha Ekadashi 2019

पापांकुशा एकादशी कब हैं 2019 | एकादशी तिथि व्रत पारण का समय | तिथि व शुभ मुहूर्त | Papankusha Ekadashi 2019 #EkadashiVrat

papankusha ekadashi kab hai
वैदिक विधान कहता हैं की, दशमी को एकाहार, एकादशी में निराहार तथा द्वादशी में एकाहार करना चाहिए। सनातन हिंदू पंचांग के अनुसार सम्पूर्ण वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं, किन्तु अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती हैं। प्रत्येक एकादशी का भिन्न भिन्न महत्व होता हैं तथा प्रत्येक एकादशीयों की एक पौराणिक कथा भी होती हैं। एकादशियों को वास्तव में मोक्षदायिनी माना जाता हैं। भगवान श्रीविष्णु जी को एकादशी तिथि अति प्रिय मानी गई हैं चाहे वह कृष्ण पक्ष की हो अथवा शुकल पक्ष की। इसी कारण एकादशी के दिवस व्रत करने वाले भक्तों पर प्रभु की अपार कृपा-दृष्टि सदा बनी रहती हैं, अतः प्रत्येक एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान श्रीविष्णु जी की पूजा करते हैं तथा व्रत रखते हैं, साथ ही रात्री जागरण भी करते हैं। किन्तु इन प्रत्येक एकादशियों में से एक ऐसी एकादशी भी हैं जिसे समस्त पापोंको हरनेवाली तथा उत्तम मनोवांछित फल प्रदान करने वाली मानी गई है। शास्त्रों के अनुसार, यह एकादशी आश्विन मास के शुक्लपक्ष की पापाङ्कुशा एकादशीके नाम से जानी जाती हैं। इस एकादशी को अश्विना शुक्ल एकादशी के नाम से भी जाना जाता हैं। जातक के समस्त पाप-कर्मो को नष्ट करने तथा मनोवांछित फल कि प्राप्ति के लिये इस दिवस भगवान श्रीविष्णु जी कि पूजा की जाती हैं जिस से जातक को पुण्य फल एवं स्वर्ग लोक की प्राप्ति होती हैं। पापांकुशा एकादशी का व्रत  मुख्यतः वैष्णव समुदाय के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण माना गया हैं। यह व्रत समस्त ब्रह्मांड के रक्षक भगवान श्रीविष्णु जी को समर्पित हैं। अतः इस दिवस भगवान विष्णु का भक्ति-भाव से पूजन-अर्चन आदि करने के पश्चात भोग लगाया जाता हैं। पृथ्वी पर जितने भी तीर्थ तथा पवित्र मंदिर हैं, उन सबके दर्शन का फल केवल एकादशी व्रत के दिवस भगवान विष्णु के नाम-कीर्तन मात्र से ही जातक प्राप्त कर लेता हैं। कहा गया है की, पापाकुंशा एकादशी का व्रत हजार अश्वमेघ तथा सौ सूर्ययज्ञ करने के समान फल प्रदान करता हैं। यह एकादशी का व्रत जातक के शरीर को निरोगी बनाने वाला तथा सुन्दर स्त्री, धन एवं सच्चे मित्र प्रदान करने वाला हैं। इस एकादशी व्रत के समान अन्य कोई व्रत नहीं हैं। धार्मिक ग्रंथों के अनुसार, जो साधक कठोर तपस्याओं के द्वारा फल प्राप्त करते हैं, वही फल इस एकादशी पर शेषनाग पर शयन करने वाले भगवान श्रीविष्णु जी को सच्चे मन से नमस्कार करने मात्र से ही प्राप्त हो जाते हैं तथा साधक को यमलोक के दु:ख नहीं भोगने पड़ते हैं। अतः कहा गया हैं की, भक्तों के लिए एकादशी के दिवस व्रत करना प्रभु भक्ति के मार्ग में प्रगति करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम हैं। भगवान श्रीकृष्ण जी ने पद्मपुराण तथा ब्रह्मवैवर्त पुराण में इस एकादशी के पुण्यों का वर्णन स्वयं किया हैं। जो जातक इस एकादशी की रात्रि में जागरण करता हैं, उसे स्वर्ग तथा मोक्ष की प्राप्ति अवश्य होती हैं। माना गया हैं की, इस व्रत का फल जातक के आने वाली 10 पीढियों को भी प्राप्त होता रहता हैं तथा व्रत के प्रभाव से जातक के दस पितरों को विष्णु लोक की प्राप्ति होती है। इस एकादशी के दिवस दान करने से अत्यंत शुभ फलों की प्राप्ति होती हैं। यह एकादशी का व्रत जातक के समस्त मनोरथ शीघ्र ही सिद्ध कर देता हैं।


पापांकुशा एकादशी व्रत का पारण

        एकादशी के व्रत की समाप्ती करने की विधि को पारण कहते हैं। कोई भी व्रत तब तक पूर्ण नहीं माना जाता जब तक उसका विधिवत पारण ना किया जाए। एकादशी व्रत के अगले दिवस सूर्योदय के पश्चात पारण किया जाता हैं।

ध्यान रहे,
१. एकादशी व्रत का पारण द्वादशी तिथि समाप्त होने से पूर्व करना अति आवश्यक हैं।
२.  यदि द्वादशी तिथि सूर्योदय से पूर्व समाप्त हो रही हो तो एकादशी व्रत का पारण सूर्योदय के पश्चात ही करना चाहिए।
३.  द्वादशी तिथि के भीतर पारण ना करना पाप करने के समान माना गया हैं।
४.  एकादशी व्रत का पारण हरि वासर के दौरान भी नहीं करना चाहिए।
५.   व्रत तोड़ने के लिए सबसे उपयुक्त समय प्रातःकाल का होता हैं।
६. व्रत करने वाले श्रद्धालुओं को मध्यान के दौरान व्रत तोड़ने से बचना चाहिए।
७. जो भक्तगण व्रत कर रहे हैं उन्हें व्रत समाप्त करने से पहले हरि वासर समाप्त होने की प्रतिक्षा करनी चाहिए। हरि वासर द्वादशी तिथि की पहली एक चौथाई अवधि होती हैं।
८. यदि जातक, कुछ कारणों से प्रातःकाल पारण करने में सक्षम नहीं हैं, तो उसे मध्यान के पश्चात पारण करना चाहिए।

इस वर्ष, आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 08 अक्तूबर, मंगलवार की दोपहर 02 बजकर 50 मिनिट से प्रारम्भ हो कर, 09 अक्तूबर, बुधवार की साँय 05 बजकर 18 मिनिट तक व्याप्त रहेगी।

अतः इस वर्ष 2019 में पापांकुशा एकादशी का व्रत 09 अक्तूबर, बुधवार के दिवस किया जाएगा।

इस वर्ष, पापांकुशा एकादशी व्रत का पारण अर्थात व्रत तोड़ने का शुभ समय, 10 अक्तूबर, गुरुवार की प्रातः 06 बजकर 26 से 8 बजकर 43 मिनिट तक का रहेगा।
द्वादशी समाप्त होने का समय - 19:52

पापांकुशा एकादशी का व्रत कब किया जाता हैं?

पापांकुशा एकादशी का व्रत दशहरे या विजया-दशमी के पर्व के अगले दिवस आता है। सनातन हिन्दू पंचाङ्ग के अनुसार पापांकुशा एकादशी का व्रत आश्विन मास की शुक्ल पक्ष के ग्यारवें दिवस अर्थात एकादशी के दिवस किया जाता हैं। अङ्ग्रेज़ी कलेंडर के अनुसार यह व्रत सितम्बर या अक्तूबर के महीने में आता हैं।

28 September 2019

नवरात्र कलश स्थापना शुभ मुहूर्त | शारदीय नवरात्र 2019 | Ghat Sthapana | Shardiya Navratra 2019 #Navratra

नवरात्र कलश स्थापना शुभ मुहूर्त | शारदीय नवरात्र 2019 | Ghat Sthapana | Shardiya Navratra 2019 #Navratra

navratra muhurat 2019
navratri ghat sthapana muhurat 2019
सर्वभूता यदा देवी स्वर्गमुक्तिप्रदायिनी।
त्वं स्तुता स्तुतये का वा भवन्तु परमोक्तयः॥
        जय माता दी  
जय श्री कालका माँ
नवरात्र हिन्दुओं का अत्यंत पवित्र तथा प्रमुख त्यौहार हैं। नवरात्र की पूजा नौ दिनों तक होती हैं तथा इन नौ दिनों में माताजी के नौ भिन्न-भिन्न स्वरुपों की पूजा की जाती हैं। माताजी के नौ रूप इस प्रकार हैं- माँ शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा माँ, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, माँ महागौरी तथा सिद्धिदात्रि माँ। प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्र आते हैं, तथा गुप्त नवरात्र भी आते हैं। पहले नवरात्र का प्रारंभ चैत्र माह के शुक्ल पक्ष से होता हैं। तथा अगले नवरात्र शारदीय नवरात्रे कहलाते हैं, जो आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से प्रारम्भ होकर नवमी तिथि तक रहते हैं। इन नवरात्रों के पश्चात दशहरा या विजयादशमी पर्व मनाया जाता हैं। यह नवरात्र आश्विन मास के शरद ऋतू में आते हैं, अतः इन नवरात्रों को शारदीय नवरात्र कहा जाता हैं। यह नवरात्र को सभी नवरात्रों में सर्वाधिक प्रमुख तथा महत्वपूर्ण माना गया हैं, अतः शारदीय नवरात्रों को महा-नवरात्रि भी कहा जाता हैं। यह त्यौहार गुजरात तथा बंगाल के साथ-साथ सम्पूर्ण भारत-वर्ष में अत्यंत धूम-धाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। माताजी के इस त्योहार को सम्पूर्ण उत्तर भारत में नवरात्र कहा जाता हैं, वहीं पश्चिम बंगाल तथा उसके आसपास के राज्यों में इसे दुर्गा पूजा के नाम से जाना जाता हैं, साथ ही गुजरात में यह पर्व अत्यंत उत्साह के साथ, डांडिया तथा गरबा खेलकर, धूमधाम से मनाया जाता हैं। दोनों ही नवरात्रों में माताजी का पूजन विधिवत् किया जाता हैं। देवी के पूजन करने की विधि दोनों ही नवरात्रों में लगभग एक समान ही रहती हैं। इस त्यौहार पर सुहागन या कन्या, सभी अपने सामर्थ्य अनुसार दो, तीन या सम्पूर्ण नौ दिनों तक का व्रत रखते हैं तथा दसवें दिन कन्या पूजन के पश्चात व्रत खोला जाता हैं। नवरात्र के प्रथम दिन शुभ मुहूर्त में व्रत का संकल्प किया जाता हैं। अतः व्रत का संकल्प लेते समय उसी प्रकार संकल्प लें जीतने दिन आपको व्रत रखना हैं। व्रत-संकल्प के पश्चात ही घट स्थापना की विधि प्रारंभ की जाती हैं। घट स्थापना सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त में ही करना चाहिए, ऐसा करने से घर में सुख तथा समृद्धि व्याप्त रहती हैं।

हिन्दू धर्म में प्रत्येक पूजा से पहले भगवान गणेश जी की पूजा का विधान हैं, अतः नवरात्र की शुभ पूजा से पहले कलश के रूप में श्री गणेश महाराज को स्थापित किया जाता हैं। नवरात्र के आरंभ की प्रतिपदा तिथि के दिन कलश या घट की स्थापना की जाती हैं। कलश को भगवान गणेश का रूप माना जाता हैं।
आइये हम आपको बताते हैं, देवी माताजी के शारदीय नवरात्र के कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त-

कलश स्थापना करते समय इन बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए-

कृपया ध्यान दे:-
1  नवरात्र में देवी पूजा के लिए जो कलश स्थापित किया जाता हैं, वह सोना, चांदी, तांबा, पीतल या मिट्टी का ही होना चाहिए। लोहे या स्टील के कलश का प्रयोग पूजा में नहीं करना चाहिए।
2. नवरात्र में कलश स्थापना किसी भी समय किया जा सकता हैं। नवरात्र के प्रारंभ से ही अच्छा समय प्रारंभ हो जाता हैं, अतः यदि जातक शुभ मुहूर्त में घट स्थापना नहीं कर पाते हैं तो वे सम्पूर्ण दिवस किसी भी समय कलश स्थापित कर सकते हैं।
3नवरात्रों में माँ भगवती की आराधना “दुर्गा सप्तसती” से की जाती है, परन्तु यदि समयाभाव है तो भगवान् शिव रचित “सप्तश्लोकी दुर्गा” का पाठ अत्यंत ही प्रभाव शाली है एवं दुर्गा सप्तसती का पाठ सम्पूर्ण फल प्रदान करने वाला है।

शारदीय नवरात्र 2019 के कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त

29 सितम्बर रविवार के शुभ दिवस से शारदीय नवरात्र का शुभारंभ हो रहा हैं। तथा यह पर्व 08 अक्तूबर मंगलवार के दिन तक मनाया जाएगा। नवरात्र के प्रथम दिन अर्थात 29 सितम्बर रविवार के दिन को माता दुर्गाजी के प्रथम स्वरूप माँ शैलपुत्री की पूजा होगी। पार्वती तथा हेमवती भी माँ शैलपुत्री के अन्य नाम हैं। इस वर्ष 2019 में देवी दुर्गा माताजी का आगमन हाथी पर होगा तथा उनका प्रस्थान चरणायुध पर होगा।
इस वर्ष, आश्विन शुक्ल प्रतिपदा तिथि 28 सितम्बर, शनिवार के रात्रि 11 बजकर 56 मिनिट से आरंभ हो कर 29 सितम्बर, रविवार की रात्रि 08 बजकर 14 मिनिट तक व्याप्त रहेगी।
अतः इस वर्ष 2019 में शारदीय नवरात्र के कलश स्थापना करने का शुभ मुहूर्त 29 सितम्बर, रविवार की प्रातः 06 बजकर 17 मिनट से 7 बजकर 42 मिनट तक का रहेगा। यदि इस, चित्रा नक्षत्र के सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त में आप कलश स्थापना करेंगे तो आपके लिए यह लाभदायक एवं अत्यंत शुभ रहेगा।
आशा करता हु मेरे द्वारा दी गयी जानकारी आपको अच्छी लगी होगी, यह जानकारी अपने दोस्तों के साथ इस विडियो के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा शेयर करे तथा हमारे चेंनल को सब्सक्राइब जरूर करे
धन्यवाद!

24 September 2019

Karva Chauth Vrat Katha in English | Karwa Choth Pooja Story in the English Language

Karva Chauth Vrat Katha in English | Karwa Choth Pooja Story in the English Language 

Karwa Choth Pooja Story in the English
Karva Chauth Vrat Katha in English 
Karva Chauth may be a one-day festival celebrated by Hindu girls from some regions of Asian nation, four days when purnima (a full moon) within the month of Kartika. Dates disagree in line with the Gregorian calendar that is tabular and doesn't seem to be supported constellations. Like several Hindu festivals, Karva Chauth is predicated on the calendar that accounts for all astronomical positions, particularly positions of the moon that is employed as a marker to calculate necessary dates.


On Karva Chauth, the married girls, particularly in Northern The Asian nation, quick from sunrise to moonrise for the security and longevity of their husbands. The Karva Chauth quick is historically celebrated within the states of Rajasthan, Prayagraj Uttar Pradesh, Himachal Pradesh, city MADHYA PRADESH, Haryana, Punjab, Old Delhi and as Atla Tadde in Andhra Pradesh. The competition falls on the fourth day when the total moon, within the Hindu calendar month of Kartik. traditionally, Karva Chauth was celebrated as a prayer for the long lifetime of troopers within the war, and by extension nowadays refers to the long life of a married husband.


Karva Chauth Vrat Katha in English

"A long very long time past, there lived an attractive patrician by the name of Veeravati. once she was of the mature age, Veeravati was married to a king. On the occasion of the primary Karva Chauth when her wedding, she visited her parents’ house."

"After sunrise, she determined a strict quick. However, the queen was too delicate and couldn’t stand the rigours of fast. By evening, Veeravati was too weak and fainted. Now, the queen had seven brothers World Health Organization idolized her dearly. They couldn’t stand the plight of their sister and determined to finish her quick by deceiving her. They created a hearth at the close hill and asked their sister to visualize the glow. They assured her that it absolutely was the moonlight and since the moon had up, she may break her quick."

"However, the instant the gullible queen Ate her dinner, she received the news that her husband, the king, was dead. The queen was sorrowful and rush to her husband’s palace. On the way, she met Lord Shiva and his consort, god Hindu deity. Hindu deity up on her that the king had died as a result of the queen had broken her quick by looking at a false moon. However, once the queen asked her for forgiveness, the god granted her the boon that the king would be revived however would be sick."

"When the queen reached the palace, she found the king lying unconscious with many needles inserted in his body. Each day, the queen managed to get rid of one needle from the king’s body. Next year, on the day of Karva Chauth, only 1 needle remained embedded within the body of the unconscious king."

"The queen determined a strict quick that day and once she visited the market to shop for the karva for the puja, her maid removed the remaining needle from the king’s body. The king regained consciousness and mistook the maid for his queen. once the important queen came back to the palace, she was created to function a maid."

"However, Veeravati was faithful to her religion and religiously determined the Karva Chauth vrat . Once the king was aiming to another kingdom, he asked the important queen (now turned maid) if she wished something. The queen asked for a combination of identical dolls. The king duty-bound and also the queen unbroken singing a song " Roli ki Goli holmium gayi... Goli ki Roli holmium gayi " (the queen has become a maid and also the maid has become a queen)."

"On being asked by the king on why did she keep continuation that song, Veeravati narrated the whole story. The king repented and rehabilitated the queen to her royal standing. it absolutely was solely the queen’s devotion and her religion that won her husband’s feeling and also the blessings of the god Hindu deity."

16 September 2019

विश्वकर्मा जी की आरती | Vishwakarma Aarti in English with meaning | विश्वकर्मा पूजा 2019

विश्वकर्मा जी की आरती | Vishwakarma Aarti in English with meaning | विश्वकर्मा पूजा 2019

Vishwakarma aarti in hindi and English
Vishwakarma aarti with meaning 
जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,

जय श्री विश्वकर्मा ।
सकल सृष्टि के करता,
रक्षक स्तुति धर्मा ॥

आदि सृष्टि मे विधि को,
श्रुति उपदेश दिया ।
जीव मात्र का जग मे,
ज्ञान विकास किया ॥

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,
जय श्री विश्वकर्मा ।

ध्यान किया जब प्रभु का,
सकल सिद्धि आई ।
ऋषि अंगीरा तप से,
शांति नहीं पाई ॥

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,
जय श्री विश्वकर्मा ।

रोग ग्रस्त राजा ने,
जब आश्रय लीना ।
संकट मोचन बनकर,
दूर दुःखा कीना ॥

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,
जय श्री विश्वकर्मा ।

जब रथकार दंपति,
तुम्हारी टेर करी ।
सुनकर दीन प्रार्थना,
विपत हरी सगरी ॥

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,
जय श्री विश्वकर्मा ।

एकानन चतुरानन,
पंचानन राजे।
त्रिभुज चतुर्भुज दशभुज,
सकल रूप साजे ॥

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,
जय श्री विश्वकर्मा ।

ध्यान धरे तब पद का,
सकल सिद्धि आवे ।
मन द्विविधा मिट जावे,
अटल शक्ति पावे ॥

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,
जय श्री विश्वकर्मा ।

श्री विश्वकर्मा की आरती,
जो कोई गावे ।
भजत गजानांद स्वामी,
सुख संपाति पावे ॥

जय श्री विश्वकर्मा प्रभु,
जय श्री विश्वकर्मा ।
सकल सृष्टि के करता,
रक्षक स्तुति धर्मा॥

Vishwakarma Arti In English

Jai shri vishwakarma prabhu, jai shri vishwakarma |
Sakal srishti ke karta, rakshak stuti dharma ||
Aadi srishti me vidhi ko shruti updesh diya |
Jeev matra ka jag me, gyan vikas kiya ||
Rishi angira tap se, shanti nahin pai |
Rog grast raja ne jab aashraya leena |
Sankat mochan bankar door duhkha keena ||
Jai shri vishwakarma.
Jab rathkaar dampati, tumhari ter kari |
Sunkar deen prarthna, vipat hari sagari ||
Ekanan chaturanan, panchanan raje |
Tribhuj chaturbhuj dashbhuj, sakal roop saje ||
Dhyan dhare tab pad ka, sakal siddhi aave |
Mann dvividha mit jave, atal shakti pave ||
Shri vishwakarma ki aarti jo koi gave |
Bhajat gajanand swami, sukh sampati pave ||
|| Jai shri Vishwakarma ||

According to Hindu Mythology singing Vishwakarma Aarti on an everyday basis once the worship of God Vishwakarma is that the best thanks to please God Vishwakarma and acquire his blessing.

How to chant Vishwakarma Aarti

To get the most effective the result you ought to sing Vishwakarma Aarti early morning once taking tub and before of God Vishwakarma Idol or image. you ought to initial perceive the Vishwakarma Aarti that means in Hindi to maximise its impact.

Benefits of Vishwakarma Aarti

Regular recitation of Vishwakarma Aarti offers peace of mind and keeps away all the evil from your life and causes you to healthy, affluent and prosperous.

Vishwakarma Puja 2019: Date, Times, Puja Vidhi, Shubh Mahurat and everyone you would like to know

Vishwakarma Puja 2019: Date, Times, Puja Vidhi, Shubh Mahurat and everyone you would like to know

vishwakarma puja vidhi
vishwakarma puja 2019
Vishwakarma Puja calculations are done in step with Bisuddhasidhanta. Vishwakarma Puja falls on the day of reckoning of the Bengali month Bhadra that is additionally called Bhadra Sankranti or Kanya Sankranti.

Vishwakarma Puja or Vishwakarma Jayanti is a vital competition for folks of Hindu community to honour and celebrate Lord Vishwakarma, WHO is thought to be the Lord of creation.
Hindu scriptures say that Lord Vishwakarma was born throughout the blessed Magha Shukla Trayodashi, due to that, he's thought of to be associate degree incorporation of Lord Shiva.

Vishwakarma is thought because the world's initial creator and engineer, WHO helped build tons of structures and arranged the muse stone once the universe was developing. it's additionally same that Lord Vishwakarma is that the one WHO created heaven, Dwapar, and even Hastinapur. Before beginning or inaugurating a manufactory, Lord Vishwakarma is usually loved. Hence, the day has special significance for those within the line of producing and machine trade. Artists, craftsmen, industrialists, businessmen, and manufactory homeowners and operators pay special regard and hold a puja in their specific work premises. it's believed that go to Lord Vishwakarma will increase business.
The day is widely known for the most part in states of Uttar Pradesh, Bihar, Delhi, geographic area, province, and Mysore. Vishwakarma Jayanti is going to be celebrated on day, that falls on a weekday.

If you're a bourgeois reaching to celebrate and honour Lord Vishwakarma here is all you would like to understand:

Shubh muhurat for the puja
Vishwakarma Puja falls throughout the blessed day of Kanya Sankranti, that is taken into account extremely auspicious. The Sankrant starts from 7:27 am and puja will be controlled anytime once this.

Here square measure the puja date and vidhi to be unbroken in mind:
Vishwakarma Puja Date on Tuesday, September 17, 2019
Vishwakarma Puja Sankranti Moment - 01:19 PM
Kanya Sankranti on Tuesday, September 17, 2019

Vishwakarma Puja Vidhi


The puja is often done by a private or as a few within the plant premises or institution wherever you're employed. The puja ought to solely be done when taking a shower within the morning.

First, it's vital to embellish and love the idols within the puja Ghar with flowers and tilak. Apply cinnabar, tilak, and akshat on all the tools within the work yet and so provide some flowers and place a Kalash close to the idol. you'll be able to conjointly use deep, incense, betel nut, etc. whereas go to.

Taking flowers, rice in hand and meditating on Lord Vishwakarma, worshipper ought to sprinkle flowers and rice within the house and institution. Folding your hands in worship, provide prayers and recite the subsequent mantra:
"Om Prithivai Namah Om Anantham Namah Om Qumayi Namah Om Shri Srishtanaya Sarvasiddhaya Vishwakarmaaya Namo Namah"

ओम आधार शक्तपे नम: और ओम् कूमयि नम:
ओम अनन्तम नम:, पृथिव्यै नम:

You can additionally recite the mantras whereas worshipping the tools and therefore the machines. Some individuals additionally perform a havan on this auspicious day.
  
After this, Prashad or sweet ought to be offered to God. If at the geographical point, you'll additionally prefer to perform aarti with the workers and distribute Prashad. you'll additionally tie a sacred red thread on the correct hand and ask for blessings.


शारदीय नवरात्रि कब है | Navratri kab hai 2019 | Durga Puja | Ghat Sthapana | Shardiya Navratra 2019 #Navratri

शारदीय नवरात्रि कब है | Navratri kab hai 2019 | Durga Puja | Ghat Sthapana | Shardiya Navratra 2019 #Navratri

2019 Durga Puja
Navratri kab hai 2019 Durga Puja
सर्वभूता यदा देवी स्वर्गमुक्तिप्रदायिनी।
त्वं स्तुता स्तुतये का वा भवन्तु परमोक्तयः॥
        जय माता दी  
जय श्री कालका माँ
नवरात्र हिन्दुओं का अत्यंत पवित्र तथा प्रमुख त्यौहार हैं। नवरात्र की पूजा नौ दिनों तक होती हैं तथा इन नौ दिनों में माताजी के नौ भिन्न-भिन्न स्वरुपों की पूजा की जाती हैं। माताजी के नौ रूप इस प्रकार हैं- माँ शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कुष्मांडा माँ, स्कंदमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, माँ महागौरी तथा सिद्धिदात्रि माँ। प्रत्येक वर्ष में दो बार नवरात्र आते हैं, तथा गुप्त नवरात्र भी आते हैं। पहले नवरात्र का प्रारंभ चैत्र माह के शुक्ल पक्ष से होता हैं। तथा अगले नवरात्र शारदीय नवरात्रे कहलाते हैं, जो आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा तिथि से प्रारम्भ होकर नवमी तिथि तक रहते हैं। इन नवरात्रों के पश्चात दशहरा या विजयादशमी पर्व मनाया जाता हैं। यह नवरात्र आश्विन मास के शरद ऋतू में आते हैं, अतः इन नवरात्रों को शारदीय नवरात्र कहा जाता हैं। यह नवरात्र को सभी नवरात्रों में सर्वाधिक प्रमुख तथा महत्वपूर्ण माना गया हैं, अतः शारदीय नवरात्रों को महा-नवरात्रि भी कहा जाता हैं। यह त्यौहार गुजरात तथा बंगाल के साथ-साथ सम्पूर्ण भारत-वर्ष में अत्यंत धूम-धाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। माताजी के इस त्योहार को सम्पूर्ण उत्तर भारत में नवरात्र कहा जाता हैं, वहीं पश्चिम बंगाल तथा उसके आसपास के राज्यों में इसे दुर्गा पूजा के नाम से जाना जाता हैं, साथ ही गुजरात में यह पर्व अत्यंत उत्साह के साथ, डांडिया तथा गरबा खेलकर, धूमधाम से मनाया जाता हैं। दोनों ही नवरात्रों में माताजी का पूजन विधिवत् किया जाता हैं। देवी के पूजन करने की विधि दोनों ही नवरात्रों में लगभग एक समान ही रहती हैं। इस त्यौहार पर सुहागन या कन्या, सभी अपने सामर्थ्य अनुसार दो, तीन या सम्पूर्ण नौ दिनों तक का व्रत रखते हैं तथा दसवें दिन कन्या पूजन के पश्चात व्रत खोला जाता हैं। नवरात्र के प्रथम दिन शुभ मुहूर्त में व्रत का संकल्प किया जाता हैं। अतः व्रत का संकल्प लेते समय उसी प्रकार संकल्प लें जीतने दिन आपको व्रत रखना हैं। व्रत-संकल्प के पश्चात ही घट स्थापना की विधि प्रारंभ की जाती हैं। घट स्थापना सर्वश्रेष्ठ मुहूर्त में ही करना चाहिए, ऐसा करने से घर में सुख तथा समृद्धि व्याप्त रहती हैं।

हिन्दू धर्म में प्रत्येक पूजा से पहले भगवान गणेश जी की पूजा का विधान हैं, अतः नवरात्र की शुभ पूजा से पहले कलश के रूप में श्री गणेश महाराज को स्थापित किया जाता हैं। नवरात्र के आरंभ की प्रतिपदा तिथि के दिन कलश या घट की स्थापना की जाती हैं। कलश को भगवान गणेश का रूप माना जाता हैं।
आइये हम आपको बताते हैं, देवी माताजी के शारदीय नवरात्र के कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त-

कलश स्थापना करते समय इन बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए-

कृपया ध्यान दे:-
1.     नवरात्र में देवी पूजा के लिए जो कलश स्थापित किया जाता हैं, वह सोना, चांदी, तांबा, पीतल या मिट्टी का ही होना चाहिए। लोहे या स्टील के कलश का प्रयोग पूजा में नहीं करना चाहिए।
2.     नवरात्र में कलश स्थापना किसी भी समय किया जा सकता हैं। नवरात्र के प्रारंभ से ही अच्छा समय प्रारंभ हो जाता हैं, अतः यदि जातक शुभ मुहूर्त में घट स्थापना नहीं कर पाते हैं तो वे सम्पूर्ण दिवस किसी भी समय कलश स्थापित कर सकते हैं।
3.     नवरात्रों में माँ भगवती की आराधना “दुर्गा सप्तसती” से की जाती है, परन्तु यदि समयाभाव है तो भगवान् शिव रचित “सप्तश्लोकी दुर्गा” का पाठ अत्यंत ही प्रभाव शाली है एवं दुर्गा सप्तसती का पाठ सम्पूर्ण फल प्रदान करने वाला है।

शारदीय नवरात्र 2019 के कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त

29 सितम्बर रविवार शुभ के दिवस से शारदीय नवरात्र का शुभारंभ हो रहा हैं। तथा यह पर्व 08 अक्तूबर मंगलवार के दिन तक मनाया जाएगा। नवरात्र के प्रथम दिन अर्थात 29 सितम्बर रविवार के दिन को माता दुर्गाजी के प्रथम स्वरूप माँ शैलपुत्री की पूजा होगी। पार्वती तथा हेमवती भी माँ शैलपुत्री के अन्य नाम हैं। इस वर्ष 2019 में देवी दुर्गा माताजी का आगमन हाथी पर होगा तथा उनका प्रस्थान चरणायुध पर होगा।
इस वर्ष, आश्विन शुक्ल प्रतिपदा तिथि 28 सितम्बर, शनिवार के रात्रि 11 बजकर 56 मिनिट से आरंभ हो कर 29 सितम्बर, रविवार की रात्रि 08 बजकर 14 मिनिट तक व्याप्त रहेगी।
अतः इस वर्ष 2019 में शारदीय नवरात्र के कलश स्थापना करने का शुभ मुहूर्त 29 सितम्बर, रविवार की प्रातः 06 बजकर 17 मिनट से 7 बजकर 42 मिनट तक का रहेगा। यदि इस, चित्रा नक्षत्र के सर्वश्रेष्ट मुहूर्त में आप कलश स्थापना करेंगे तो आपके लिए यह लाभदायक एवं अत्यंत शुभ रहेगा।
आशा करता हु मेरे द्वारा दी गयी जानकारी आपको अच्छी लगी होगी, यह जानकारी अपने दोस्तों के साथ इस विडियो के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा शेयर करे तथा हमारे चेंनल को सब्सक्राइब जरूर करे
धन्यवाद!

 नवरात्र तिथि | Dates of Navratra

पहला नवरात्र, प्रथमा तिथि, 29 सितम्बर 2019, दिन रविवार
दूसरा नवरात्र, द्वितीया तिथि, 30 सितम्बर 2019, दिन सोमवार.
तीसरा नवरात्र, तृतीया तिथि, 1 अक्तूबर 2019, दिन मंगलवार.
चौथा नवरात्र, चतुर्थी तिथि, 2 अक्तूबर 2019, बुधवार.
पांचवां नवरात्र पंचमी तिथि , 3 अक्तूबर 2019, बृहस्पतिवार.
छठा नवरात्र, षष्ठी तिथि, 4 अक्तूबर 2019, शुक्रवार.
सातवां नवरात्र, सप्तमी तिथि, 5 अक्तूबर 2019, शनिवार
आठवां नवरात्र, अष्टमी तिथि, 6 अक्तूबर 2019, रविवार
नौवां नवरात्र, नवमी तिथि, 7 अक्तूबर 2019, सोमवार
         दशहरा, दशमी तिथि, 8 अक्तूबर 2019, मंगलवार

07 September 2019

परिवर्तिनी एकादशी कब है 2019 | एकादशी तिथि व्रत पारण का समय | तिथि व शुभ मुहूर्त | Parivartini Ekadashi 2019 #EkadashiVrat

परिवर्तिनी एकादशी कब है 2019 | एकादशी तिथि व्रत पारण का समय | तिथि व शुभ मुहूर्त | Parivartini Ekadashi 2019 #EkadashiVrat

parivartini ekadashi kab hai
parivartini ekadashi kab hai date
        वैदिक विधान कहता है की, दशमी को एकाहार, एकादशी में निराहार तथा द्वादशी में एकाहार करना चाहिए। सनातन हिंदू पंचांग के अनुसार सम्पूर्ण वर्ष में 24 एकादशियां आती हैं, किन्तु अधिकमास की एकादशियों को मिलाकर इनकी संख्या 26 हो जाती है। भगवानजी को एकादशी तिथि अति प्रिय मानी गई है चाहे वह कृष्ण पक्ष की हो अथवा शुकल पक्ष की। इसी कारण एकादशी के दिन व्रत करने वाले भक्तों पर प्रभु की अपार कृपा-दृष्टि सदा बनी रहती है, अतः प्रत्येक एकादशियों पर हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले भगवान श्रीविष्णु जी की पूजा करते हैं तथा व्रत रखते हैं, एवं रात्री जागरण करते है। किन्तु इन सभी एकादशियों में से एक ऐसी एकादशी भी है जिसमे भगवान विष्णु जी चातुर्मास की निद्रा में सोते हुए अपनी करवट बदलते हैं। अतः इस एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। यह एकादशी भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन आती है तथा यह एकादशी, पार्श्व एकादशी, वामन एकादशी, जयझूलनी, डोल ग्यारस, पद्मा एकादशी तथा जयंती एकादशी के नाम से भी जानी जाती है। परिवर्तिनी एकादशी के दिन भगवान् विष्णु के वामन स्वरूप की पूजा-अर्चना की जाती है। पापियों के पाप का नाश करने के लिए परिवर्तिनी एकादशी के व्रत से बड़ा कोई उपाय नहीं है। संसार से मोक्ष प्रदान करने वाली यह एक सर्वोत्तम एकादशी मानी गई है। जो मनुष्य इस एकादशी के दिन भगवान के वामन स्वरूप की पूजा करता है, उस मनुष्य को वाजपेय यज्ञ का फल प्राप्त होता है। जैसे की आपको ज्ञात होगा की देवशयनी एकादशी से भगवान विष्णु चार मास के लिये योगनिद्रा में शयन करते हैं। अतः इन चार महीनों को चतुर्मास कहा जाता है तथा धार्मिक कार्यों, ध्यान, भक्ति आदि के लिये यह समय अति उत्तम माना जाता है। आषाढ़, श्रावण, भाद्रपद तथा आश्विन यह चार मास धार्मिक रूप से चतुर्मास या चौमासा के नाम से जाने जाते हैं तथा ऋतुओं में यह काल वर्षा ऋतु का होता है। भगवान विष्णु चार मास की अवधि में देवशयनी एकादशी से शयन करते रहते हैं तथा परिवर्तिनी एकादशी पर अपनी करवट बदलते हैं तथा देव उठनी एकादशी के दिन ही जागृत होते हैं।


       परिवर्तिनी एकादशी व्रत का पारण

        एकादशी के व्रत की समाप्ती करने की विधि को पारण कहते हैं। कोई भी व्रत तब तक पूर्ण नहीं माना जाता जब तक उसका विधिवत पारण न किया जाए। एकादशी व्रत के अगले दिन सूर्योदय के पश्चात पारण किया जाता है।

ध्यान रहे,
१.   एकादशी व्रत का पारण द्वादशी तिथि समाप्त होने से पहले करना अति आवश्यक है।   
२.   यदि द्वादशी तिथि सूर्योदय से पहले समाप्त हो गयी हो तो एकादशी व्रत का पारण सूर्योदय के पश्चात ही होता है।
३.   द्वादशी तिथि के भीतर पारण न करना पाप करने के समान होता है।
४.   एकादशी व्रत का पारण हरि वासर के दौरान भी नहीं करना चाहिए।
५.   व्रत तोड़ने के लिए सबसे उपयुक्त समय प्रातःकाल होता है।
६.   व्रत करने वाले श्रद्धालुओं को मध्यान के दौरान व्रत तोड़ने से बचना चाहिए।
७.   जो भक्तगण व्रत कर रहे हैं उन्हें व्रत समाप्त करने से पहले हरि वासर समाप्त होने की प्रतिक्षा करनी चाहिए। हरि वासर द्वादशी तिथि की पहली एक चौथाई अवधि होती है।
८.   यदि, कुछ कारणों की वजह से जातक प्रातःकाल पारण करने में सक्षम नहीं है, तो उसे मध्यान के पश्चात पारण करना चाहिए।

        इस वर्ष, भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 08 सितम्बर, रविवार की रात्रि 10 बजकर 41 मिनिट से प्रारम्भ हो कर, 09 सितम्बर सोमवार की मध्य-रात्रि 12 बजकर 30 मिनिट तक व्याप्त रहेगी।
       
        अतः इस वर्ष 2019 में परिवर्तिनी एकादशी का व्रत 09 सितम्बर, सोमवार के दिन किया जाएगा।
       
        इस वर्ष 2019 में, परिवर्तिनी एकादशी व्रत का पारण अर्थात व्रत तोड़ने का शुभ समय, 10 सितम्बर, मंगलवार की प्रातः 07 बजकर 02 से 08 बजकर 46 मिनिट तक का रहेगा।

Enter you Email