21 September 2017

9 दिन के 9 भोग | माँ दुर्गा देवी जी को किस तिथि पर कौन सा भोग लगाये | Navratri 2018 | Navratra Prasad


9 दिन के 9 भोग | माँ दुर्गा देवी जी को किस तिथि पर कौन सा भोग लगाये | Navratri 2018 | Navratra Prasad

जानिए, नवरात्रि के 9 दिन नवदुर्गाओं को क्या भोग चढ़ाएं जिससे माता प्रसन्न हो तथा आपको आशीर्वाद के रूप में सारी मनोकामनाए पूर्ण करे तथा मनोवांछित फल प्रदान करे






नमस्कार दोस्तों! में विनोद पांडे, आपका हार्दिक स्वागत करता हु!

दोस्तों, स्वयं भोजन करने से पूर्व माताजी को भोग लगाने से मनुष्य के प्रत्येक पापकर्म का नाश हो जाता है तथा उसे पुण्य प्राप्त होता है। कोई भी पूजा माताजी को भोग लगाए बिना अधूरी मानी गयी हैं।
नवरात्र हिन्दुओं का एक पवित्र त्यौहार है। सनातन धर्म में नवरात्री पर्व अत्यंत विशेष महत्व रखता है. इस पावन पर्व पर आप भी दुर्गा माता जी को प्रसन्न कर के उनका पावन आशीर्वाद पाप्त कर सकते है। नवरात्र की पूजा नौ दिनों तक चलती हैं तथा इन नौ दिनों में माताजी के नौ भिन्न-भिन्न स्वरुपों की पूजा की जाती है। माता जी के यह सभी स्वरूपों का भिन्न-भिन्न प्रभाव तथा भिन्न-भिन्न महत्व है।
विनोद पांडे
माँ दुर्गा देवी जी को किस तिथि पर कौन सा भोग लगाये
आइये आज हम आपको बताएँगे की इन नो देवियो को कौन से तिथि पर कौनसा भोग लगाने से वे अत्यंत प्रसन्न होते है तथा अपनी कृपादृष्टी आप पर बना कर, आपकी समस्त मनोकामनाए पूर्ण करते हैं।

1- प्रतिपदा का भोग - नवरात्री का प्रथम दिन माँ शेलपुत्री का होता है
शैलपुत्री माता को सफेद चीजों का भोग लगाये तथा माँ शैलपुत्री के चरणों में गाय का शुध्द घी अर्पित करे ऐसा करने से माँ शैलपुत्री अति प्रसन्न होते है तथा घर के सभी व्यक्ति को रोगों से मुक्ति प्राप्त होती है
2- द्वितीया का भोग - नवरात्री का द्वितीय दिन माँ ब्रह्मचारणी का होता है
ब्रह्मचारिणी माता को मिश्री, चीनी एवं पंचामृत का भोग लगाये ऐसा करने से व्यक्ति आयुष्यमान होता है तथा स्त्रियों को अखंड-सौभाग्य की प्राप्ति होती है
3- तृतीया का भोग- नवरात्री का तृतीय दिन माँ चंद्रघंटा का होता है
चंद्रघंटा माता को दूध तथा दूधसे बने अन्य पदार्थ जेसे की खीर या मिठाई का भोग लगाएं ऐसा करने से माता जी प्रसन्न होती हैं तथा सभी दुखों का नाश करती हैं तथा आपको सुख-शांति का वरदान देती है
4- चतुर्थी का भोग:- नवरात्री का चतुर्थ दिन माँ कुष्मांडा का होता है
कुष्मांडा माता को घर पर ही बनाये गए मालपुए का भोग लगाएं ऐसा करने से बुद्धि का विकास होने के साथ-साथ मन शांत रहेने लगता है तथा निर्णय लेने की क्षमता भी अच्छी हो जाती है
5- पंचमी का भोग:- नवरात्री का पांचवा दिन माँ स्कन्दमाता का होता है
स्कंदमाता जी को केले का भोग लगाए ऐसा करने से व्यक्ति को स्वास्थ्य का लाभ होता है तथा दुर्लभ से दुर्लभ रोगों से भी मुक्ति प्राप्त होती है
6- षष्ठी का भोग:- नवरात्री का छठा दिन माँ कात्यानी का होता है
कात्यायनी माता को मधु अर्थात शहद का भोग लगाए ऐसा करने से सुंदरता की प्राप्ती होती है तथा समाज में आपका व्यक्तित्व प्रभावशाली बन जाता है
7- सप्तमी का भोग:- नवरात्री का सातवा दिन माँ कालरात्रि का होता है
कालरात्रि माता को गुड़ का भोग लगाए ऐसा करने से व्यक्ति को आने वाले शोक तथा संकटो से मुक्ती मिलती है
8- अष्टमी का भोग:- नवरात्री का आठंवा दिन माँ महागौरी का होता है
महागौरी माता को नारियल का भोग लगाएं तथा उस नारियल को घर के सभी सदस्यों के सिर से सात घुमाकर बहते हुए जल में प्रवाहित कर दें, ऐसा करने से आपकी समस्त मनोकामनाए पूर्ण होगी तथा संतान सुख भी प्राप्त होता है
9- नवमी का भोग:- नवरात्री का नौवें दिन माँ सिद्धिदात्री का होता है
माँ दुर्गा देवी जी को किस तिथि पर कौन सा भोग लगाये
माँ दुर्गा देवी जी को किस तिथि पर कौन सा भोग लगाये
सिद्धिदात्री माता को तिल का तथा अन्य अनाज का भोग लगाएं ऐसा करने से जीवन में प्रत्येक सुख-शांति तथा वैभव की प्राप्ति होती है तथा अकाल मृत्यु से माता आपकी रक्षा करेगी
दोस्तों, हमारा आपसे निवेदन है की, यह जानकारी, आप व्हाट्स-अप या फेसबुक जैसे सोशल मिडिया के माध्यम से अधिक से अधिक शेयर करे और हमारे चेनल को अभी सब्सक्राइब कर के हमारा मनोबल बढ़ाये।
        विडियो देखने के लिए धन्यवाद, आशा करता हु हमारे द्वारा दी गइ जानकारी आपको अच्छी लगी होगी, यदि आपका कोई सुझाव या प्रश्न है तो कमेंट बॉक्स में लिखे।
        भगवन आपको सफल बनाये तथा उज्जवल भविष्य प्रदान करे।
धन्यवाद् ......!

लोकप्रिय पोस्ट पढे

प्रतिदिन ओम (ॐ) मंत्र के जाप करने का सही तरीका
हनुमान जी का अत्यंत शक्तिशाली, अद्भुत तथा चमत्कारी श्लोक
सुन्दरकाण्ड का पाठ करने का सही तरीका । रोचक जानकारी
विध्यार्थी श्लोक मन्त्र - काक चेष्टा भावार्थः सहित



No comments:

Post a Comment

Enter you Email