15 September 2017

Most Powerful Mantra Lord Vishnu Hindi Meaning Sanskrit English

भगवान श्रीहरी विष्णु जी ।। अत्यंत शक्तिशाली श्लोक ।। धन एवं वैभव ।। भय का नाश कर देगा ।। Most Powerful Mantra | Lord Vishnu | Hindi | Meaning | Sanskrit | English



नमस्कार भक्तो में विनोद पांडे, आपका हार्दिक स्वागत हैं आपके अपने youtube चेंनल पर।

दोस्तों, भगवान विष्णु जी त्रिदेवों में एक है सम्पूर्ण जगत का पालन करने वाले देवता हैं। विष्णु जी को सृष्टि का संचालक कहा जाता हैं उनका स्वरूप शांत और आनंदमयी है। भगवान जी की पत्नी माता लक्ष्मी जी है। विष्णु जी क्षीर सागर में विराजमान रहते हैं। गुरुवार के दिन भगवान विष्णु का स्मरण कर ' नमो भगवते  वासुदेवायमंत्र का जाप करना फलदायी रहता है। इसके साथ ही भक्तजनों के लिए आज हम प्रस्तुत हैं श्रीहरि विष्णु जी का अत्यंत शक्तिशाली श्लोक तथा अर्थ, जिसका नियमित जाप करने से भगवान जल्द ही प्रसन्न हो जाते हैं तथा अपने भक्तों पर विशेष कृपा दृष्टि बनाए रखते है और उन्हें शुभ फल तथा धन एवं वैभव प्रदान करते हैं-

श्लोक
शान्ताकारं   भुजगशयनं   पद्मनाभं   सुरेशं
विश्वाधारं गगनसदृशं मेघवर्ण शुभाङ्गम्
लक्ष्मीकान्तं कमलनयनं योगिभिर्ध्यानगम्यम्
वन्दे विष्णुं भवभयहरं सर्वलोकैकनाथम्
अर्थ –
शांत स्वरुप शेषनाग पर लेते, भगवान विष्णु की नाभि से कमल उत्पन्न हैं,
वे सब देवो के स्वामि हैं, वे सारे विश्व के अधार हैं,
आकाश की तरह अलिप्त, और बादल की तरह साँवले हैं,
जिनकी आँखे कमल के समान, वही सभी संपत्ति के स्वामी हैं,
योगी उन्हें जानने के लिए उनका धयान करते हैं,
इस संसार के सब भय का नाश करने वाले,
सब लोको के स्वामी, श्री विष्णु भगवान को मेरा नमस्कार!

दोस्तों यह जानकारी आप अपने मित्रगण के साथ व्हाट्स-अप या फेसबुक के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा शेयर करे तथा हमारे चेंनल को सब्सक्राइब जरूर करे!
 विडियो देखने के लिए धन्यवाद, हमारे अन्य विडियो भी देखे और आपके अतुल्य सुझाव कमेंट बॉक्स में लिखकर बताये की आप और कौनसी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं?
भगवान् आपको सफल बनाये तथा उज्वल भविष्य प्रदान करे!
धन्यवाद!


Shaanta-Aakaaram Bhujaga-Shayanam Padma-Naabham Sura-Iisham
Vishva-Aadhaaram Gagana-Sadrsham Megha-Varnna Shubha-Anggam|
Lakssmii-Kaantam Kamala-Nayanam Yogibhir-Dhyaana-Gamyam
Vande Vissnnum Bhava-Bhaya-Haram Sarva-Loka-Eka-Naatham ||


Meaning:
1: (Salutations to Sri Vishnu) Who has a Serene Appearance, Who Rests on a Serpent (Adisesha), Who has a Lotus on His Navel and Who is the Lord of the Devas,
2: Who Sustains the Universe, Who is Boundless and Infinite like the Sky, Whose Colour is like the Cloud (Bluish) and Who has a Beautiful and Auspicious Body,
3: Who is the Husband of Devi Lakshmi, Whose Eyes are like Lotus and Who is Attainable to the Yogis by Meditation,
4: Salutations to That Vishnu Who Removes the Fear of Worldly Existence and Who is the Lord of All the Lokas.


Shanta Karam Bhujaga Shayanam,
Padmanabham Suresham.
Vishvadharam Gagana Sadrusham,
Megha Varnam Shubhangam.
Lakshmi Kantam Kamala Nayanam,
Yogibhir Dhyana Gamyam.
Vande Vishnum Bhava Bhaya Haram,
Sarva Lokaia Kanatham.

I adore Lord Vishnu
who is the embodiment of peace,
who lies on the Shesha serpent,
whose navel is the source of the Lotus of the Universe,
whose complexion is swarthy like the clouds,
whose body shines with heavenly beauty,
who is the beloved of Goddess Lakshmi,
whose eyes are like Lotus,
who is meditated upon by the yogis,
who is the remover of the fear of the
world-process, the cycle of birth and death.




No comments:

Post a Comment

Enter you Email