24 November 2018

मधुराष्टकम् इन संस्कृत हिन्दी भावार्थ सहित | Madhurashtakam Stotram | Lyrics and Meaning in Hindi

मधुराष्टकम् | हिन्दी भावार्थ सहित

Madhurashtakam Stotram Meaning in Hindi
Madhurashtakam Stotram

श्री मधुराष्टकम् 🌺

अधरं मधुरं वदनं मधुरं
नयनं मधुरं हसितं मधुरम् ।
हृदयं मधुरं गमनं मधुरं
मधुराधिपति: अखिलं मधुरम् ॥ 1 ॥
भावार्थ🌺
(हे कृष्ण !) आपके होंठ मधुर हैं, आपका मुख मधुर हैं, आपकी ऑंखें मधुर हैं, आपकी मुस्कान मधुर हैं, आपका हृदय मधुर हैं, आपकी चाल मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर हैं ॥१॥

वचनं मधुरं चरितं मधुरं
वसनं मधुरं वलितं मधुरम् ।
चलितं मधुरं भ्रमितं मधुरं
॥मधुराधिपति: अखिलं मधुरम्।।2 ॥
भावार्थ🌺
आपका बोलना मधुर हैं, आपके चरित्र मधुर हैं, आपके वस्त्र मधुर हैं, आपका तिरछा खड़ा होना मधुर हैं, आपका चलना मधुर हैं, आपका घूमना मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर हैं ॥२॥


वेणु-र्मधुरो रेणु-र्मधुरः
पाणि-र्मधुरः पादौ मधुरौ ।
नृत्यं मधुरं सख्यं मधुरं
मधुराधिपति:अखिलं मधुरम् ॥ 3 ॥
भावार्थ🌺
आपकी बांसुरी मधुर हैं, आपके लगाये हुए पुष्प मधुर हैं, आपके हाथ मधुर हैं, आपके चरण मधुर हैं , आपका नृत्य मधुर हैं, आपकी मित्रता मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर हैं।

गीतं मधुरं पीतं मधुरं
भुक्तं मधुरं सुप्तं मधुरम् ।
रूपं मधुरं तिलकं मधुरं
मधुराधिपति: अखिलं मधुरम् ॥ 4 ॥
भावार्थ🌺
आपके गीत मधुर हैं, आपका पीना मधुर हैं, आपका खाना मधुर हैं, आपका सोना मधुर हैं, आपका रूप मधुर हैं, आपका टीका मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर हैं ॥४॥

करणं मधुरं तरणं मधुरं
हरणं मधुरं स्मरणं मधुरम् ।
वमितं मधुरं शमितं मधुरं
मधुराधिपति: अखिलं मधुरम् ॥ 5 ॥
भावार्थ🌺
आपके कार्य मधुर हैं, आपका तैरना मधुर हैं, आपका चोरी करना मधुर हैं, आपका प्यार करना मधुर हैं, आपके शब्द मधुर हैं, आपका शांत रहना मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर हैं ॥५॥

गुञ्जा मधुरा माला मधुरा
यमुना मधुरा वीची मधुरा ।
सलिलं मधुरं कमलं मधुरं
मधुराधिपति: अखिलं मधुरम् ॥ 6 ॥
भावार्थ🌺
आपकी घुंघची मधुर हैं, आपकी माला मधुर हैं, आपकी यमुना मधुर हैं, उसकी लहरें मधुर हैं, उसका पानी मधुर हैं, उसके कमल मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर हैं ॥६॥

गोपी मधुरा लीला मधुरा
युक्तं मधुरं मुक्तं मधुरम् ।
दृष्टं मधुरं शिष्टं मधुरं
मधुराधिपति: अखिलं मधुरम् ॥ 7 ॥
भावार्थ🌺
आपकी गोपियाँ मधुर हैं, आपकी लीला मधुर हैं, आप उनके साथ मधुर हैं, आप उनके बिना मधुर हैं, आपका देखना मधुर हैं, आपकी शिष्टता मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर हैं ॥७॥

गोपा मधुरा गावो मधुरा
यष्टि र्मधुरा सृष्टि र्मधुरा ।
दलितं मधुरं फलितं मधुरं
मधुराधिपति: अखिलं मधुरम् ॥ 8 ॥
भावार्थ🌺
आपके गोप मधुर हैं, आपकी गायें मधुर हैं, आपकी छड़ी मधुर हैं, आपकी सृष्टि मधुर हैं, आपका विनाश करना मधुर हैं, आपका वर देना मधुर हैं, मधुरता के ईश हे श्रीकृष्ण! आपका सब कुछ मधुर हैं ॥८॥
 


No comments:

Post a Comment

Enter you Email