15 December 2016

अच्छी निंद्रा के लिए श्लोक - मन्त्र क्रमांक १

निंद्रा के समय का श्लोक - मंत्र  





राम स्कन्धं हनुमतं ।

वैनतेयं वृकोदरम् ॥

शयनेय स्मरनित्यम् ।

दुस्वप्नम् तस्यनस्यति ॥

 




भावार्थः   :-

     हम प्रतिरात्रि भगवान श्री हनुमान जी, गरुड़ भगवान एवं वीर भीम जी को याद करते है कि  वे हमें रात्रि में आने वाले ख़राब सपनो से हमारी रक्षा करे । 



  श्लोक का महत्व :-


      आम तौर पर आरामदायक निंद्रा  , अच्छे सपने और अच्छी रात्रि के लिए यह मंत्र पढ़ना चहिये। यह श्लोक रात्रि में कभी अशुभ स्वप्न नहीं  आने देता ।

               

      जिसके फलस्वरूप हमारी सामान्य जीवनचर्या और सभी काम बहुत ही आसानी से और सफलतापूर्ण पूरे होते है ।

 

 








No comments:

Post a Comment

Enter you Email