26 February 2020

ऐसी कौन कौनसी झूठी तस्वीरें हैं जिन्हे जबरन सच मनवाया गया है और जिस पर से पर्दा उठाना बेहद जरूरी हो गया है?


ऐसी कौन कौनसी झूठी तस्वीरें हैं जिन्हे जबरन सच मनवाया गया है और जिस पर से पर्दा उठाना बेहद जरूरी हो गया है?

some false pictures that have been declared forcibly true and from which the curtain has become very important


दुनिया भर में हजारों लोग हजारों फोटो, वीडियो, बयानों आदि को सांझा करते रहते हैं। लेकिन कोई भी वास्तव में नहीं जानता है कि यह सब कहां से आ रहे है, कौन इनको बना रहे है। कौन तस्वीरें क्लिक कर रहा है और कौन वीडियो बना रहा है।

इंटरनेट और सोशल मीडिया की दुनिया में, सब कुछ सांझा होता रहता है और बिजली की गति से भी तेज़ी से वायरल हो जाता है और कोई भी वास्तव में परवाह नहीं करता है कि वे जो समाचार वीडियो या तस्वीरें साझा कर रहे हैं, वे असली हैं या नकली हैं।
इस सब के बीच बहुत सी मशहूर हस्तियों, राजनीतिज्ञों, प्रमुख ऐतिहासिक घटनाओं के नकली चित्रों और वीडियो को व्यापक रूप से प्रसारित किया जाता है। इतना कि, कभी-कभी उन लोगों को यह घोषणा करनी पड़ती है कि तस्वीरें नकली हैं।
कुछ अविश्वसनीय नकली तस्वीरें जो एक समय में बहुत वायरल हुई थीं, उन्हें शेयर कर रही हूँ।
तो आइए देखते हैं कुछ ऐसी ही तस्वीरें और जानते हैं उनका सच:
  1. महिला कुर्द सैनिक रेहाना "एंजेल ऑफ कोबेन"
रेहाना, जिसे "एंजेल ऑफ कोबेन" के रूप में बताया गया था। कहा गया था कि उसने 100 आईएस लड़ाकों को अकेले ही मार दिया था। लेकिन सच तो यह है कि वह अलेप्पो में एक कानून की छात्रा थी और एक सहायक होम गार्ड यूनिट के लिए स्वेच्छा से काम करती थी। उसने 100 आईएस लड़ाकों को नहीं मारा। एक स्वीडिश पत्रकार जो वास्तव में फोटो वाली महिला से मिला था, का कहना है कि वह एक पूर्व कानून की छात्रा है, जो कोबेन की होमगार्ड या पुलिस बल के साथ स्वेच्छा से काम करती है, और फ्रंट-लाइन फाइटर नहीं है। इसलिए यह संभव नहीं है कि वह 100 आईएस लड़ाकों को अकेले ही मारे।
2. आपको वाकई लगता है कि महात्मा किसी पार्टी में नाच रहे हैं?
महात्मा गांधी की एक महिला के साथ नाचने की यह तस्वीर इंटरनेट पर सामने आने पर लोग हैरान रह गए थे। हालाँकि, यह महात्मा गांधी नहीं थे। यह एक ऑस्ट्रेलियाई अभिनेता हैं, जो उनके जैसे कपड़े पहने किसी समारोह में नाच रहा था।
3. लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती को हार्वर्ड में व्याख्यान(लेक्चर) देने के लिए नहीं बुलाया गया था?
लालू प्रसाद यादव की बेटी मीसा भारती ने ट्विटर पर एक तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा था - "हार्वर्ड में युवाओं की भूमिका पर व्याख्यान(लेक्चर) देते हुए।" हालांकि, हार्वर्ड में आयोजन समिति के एक आधिकारिक प्रवक्ता ने पुष्टि की कि उन्हें कोई भाषण देने के लिए आमंत्रित नहीं किया गया था।
हार्वर्ड विश्वविद्यालय ने एक बयान जारी किया था, जिसमें कहा गया था कि "मीसा भारती को दर्शकों के हिस्से के रूप में आमंत्रित किया गया था, न कि हार्वर्ड में इंडिया कॉन्फ्रेंस में किसी पैनल के स्पीकर के रूप में। उनकी उपस्थिति की स्थिति की पुष्टि इस तथ्य से भी की जा सकती है कि उन्हें टिकट खरीदी थी। उन्हें कोई व्याख्यान(लेक्चर) देने के लिए आमंत्रित नहीं किया गया था। "
4. भारत के गृह मंत्री के चरणों में झुकते हुए पुलिसकर्मी की झूठी तस्वीर।
फ़ोटोशॉप के दुरुपयोग का एक बहुत स्पष्ट मामला होने के बावजूद, इसे भारत में सामाजिक नेटवर्क(सोशल नेटवर्क) पर व्यापक रूप से प्रसारित किया गया था। और यहां तक कि एक प्रमुख विपक्षी पार्टी के प्रवक्ता द्वारा प्रमाणित भी किया गया था। एक बार देखने में यह तस्वीर एक उच्च श्रेणी के पुलिस अधिकारी को भारत के गृह मंत्री, राजनाथ सिंह के चरणों में झुकते हुई प्रतीत होती हैं। यह तस्वीर भ्रष्ट पुलिस अधिकारियों के बारे में एक पुरस्कार विजेता फिल्म " क्या यही सच है।" के स्क्रीनशॉट पर आधारित है। स्क्रीनशॉट में एक काल्पनिक मंत्री के सिर को राजनाथ सिंह की तस्वीर के साथ बदल दिया गया था।
यह फिल्म का मूल स्क्रीनशॉट है:
5. बसीरहाट में सांप्रदायिक हिंसा को बढ़ावा देने के लिए इस झूठी तस्वीर का इस्तेमाल किया गया
जुलाई 2017 में, पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना जिले के बशीरहाट उपखंड में सांप्रदायिक हिंसा भड़क उठी थी। जिसके बाद एक फोटोशॉप्ड झूठी तस्वीर बनाई गई थी। इस तरह की फोटोशॉप्ड तस्वीरों से हिंसा को और बढावा मिला था, जिसे इस क्षेत्र में सांप्रदायिक हिंसा को उकसाने के उद्देश्य से सोशल मीडिया पर प्रसारित किया गया था। ये फोटोशॉप्ड झूठी तस्वीर वास्तव में एक भोजपुरी फिल्म “औरत खिलोना नहीं” से है, जिसमें मुस्लिम पुरुषों द्वारा एक हिंदू महिला के उत्पीड़न के रूप में दिखाया गया था। भड़काऊ संदेशों और चित्रों का सहारा लेकर पहले से ही अस्थिर स्थिति को बदतर बना दिया गया था।
यह फिल्म का असली स्क्रीनशॉट है:
6. व्हाट्स ऐप और फेसबुक के माध्यम से सचिन तेंदुलकर की एक दुर्लभ तस्वीर(लेकिन नकली ) के रूप में प्रसारित की जा रही हैं।
यह युवती कौन है?
क्या आप अनुमान लगा सकते हैं कि यह महिला कौन है?
और इसी तरह के कई सवाल व्हाट्सएप पर एक महाराष्ट्रीयन महिला के बारे में पूछे जा रहे हैं, जो पारंपरिक साड़ी पहने है। लोग इस छवि को व्हाट्सएप पर साझा कर रहे थे और दावा कर रहे थे कि यह महिला कोई और नहीं बल्कि क्रिकेट के दिग्गज सचिन तेंदुलकर हैं। और यह दावा किया कि उन्होंने अपने कॉलेज के फैंसी ड्रेस प्रतियोगिता के लिए साड़ी पहनी थी। यह एक नकली तस्वीर थी। क्योंकि, वह कभी कॉलेज नहीं गया। और दूसरी बात उसके परिपक्व चेहरे की जांच करें, उसकी तुलना उसके कॉलेज जाने के समय के चेहरे के साथ करें। यह तस्वीर एक ऐसी महिला की लगती है जो सबसे ज्यादा सचिन से मिलती जुलती है।
इस झूठी तस्वीर को साझा करना, इस महिला और भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित सचिन तेंदुलकर दोनों के लिए अपमानजनक है। साझा करने से पहले हर किसी को एक बार जरूर सोचना चाहिए।
7. दीवाली की रात भारत कैसा दिखता है, लेकिन ऐसा नहीं है।
दिवाली के बाद हर साल, भारत की रंगीन तस्वीर, जैसा कि अंतरिक्ष से देखा जाता है, सोशल नेटवर्क पर प्रसारित होती है। परंतु हमें खेद है, कि यह तस्वीर दीवाली की रात की नहीं है।
यह तस्वीर उपग्रह के संग्रहित डेटा से आती है। यह अमेरिकी रक्षा मौसम उपग्रहों के डेटा पर आधारित है। और यह समय के साथ जनसंख्या वृद्धि को उजागर करने के लिए वैज्ञानिक क्रिस एलविज द्वारा 2003 में बनाया गया एक रंग-मिश्रित तस्वीर है। इस तस्वीर में, सफेद क्षेत्रों में शहर की जनसख्या दिखाई देती है जो 1992 से पहले दिखाई दे रही थी। जबकि नीले, हरे और लाल रंगों की रोशनी में गाँवों की जनसंख्या दिखाई देती है, जो क्रमशः 1992, 1998 और 2003 में दिखाई दीं।
नासा के अनुसार, दिवाली के दौरान उत्पन्न अतिरिक्त प्रकाश इतना सूक्ष्म होता है कि अंतरिक्ष से लिए गए चित्र इसे नहीं दिखा सकते।

8. जापान में पाया जाने वाला सबसे महंगा तरबूज है मूनमेलन। (वाकई में )।
यह जापानी फल आपके खाने के बाद स्वाद बदलने की क्षमता रखता है। सभी खट्टी चीजें मीठी हो जाती हैं। नमकीन खाद्य पदार्थ कड़वे हो जाते हैं। पानी सिर्फ पानी नहीं है - यह नारंगी-स्वाद वाला है। यह अद्भुत मूनमेलन है और यह वास्तविक नहीं है।
मूनमेलन कई इंटरनेट के झूठो में से एक झूठ है, जिसने पिंटरेस्ट से अपनी दोषपूर्ण ख्याति प्राप्त की। मूनमेलन सिर्फ एक तरबूज की एक तस्वीर है जिसमें गुलाबी रंग को नीले रंग की उज्ज्वल छाया के साथ बदल दिया गया है। मूनमेलन ने मई 2011 से इंटरनेट को मूर्ख बनाया है। टंबलर इस बकवास के लिए जिम्मेदार है।
9. गर्भवती माँ के पेट से बच्चे का पैर दिख रहा है?
मुझे लगता है, इस तस्वीर को 2004 से सोशल मीडिया पर साझा किया जा रहा है। इसे गर्भावस्था के तीसरे तिमाही में बच्चे के हिलने ढूलने की प्रमुख छवि के रूप में पोस्ट किया गया है। कई लोगों का मानना ​​था कि यह सच है जबकि दूसरों को यह संदेह है कि यह पूरी तरह से नकली है। कई गर्भवती माँओ ने अपने डॉक्टरों के साथ इस पर चर्चा भी करनी शुरू कर दी थी , और यह पूछने लगी थी कि किस सप्ताह में वे अपने बच्चे के हाथ / पैर के प्रिंट पेट के बाहरी त्वचा के माध्यम से देख सकती हैं। फिर, बहुत चर्चा के बाद, यह बताया गया कि यह एक धोखा है। फोटो की प्रामाणिकता पर शोध करने वाले लोगों ने कहा कि "बच्चे ने गर्भाशय को फाड़ दिया और छेद में त्वचा के माध्यम से अपना पैर रख दिया, लेकिन अगर ऐसा होता तो तस्वीर लेने वाले बेवकूफ को 911 पर कॉल करना चाहिए था, क्योंकि महिला गंभीर हालत में थी। ”
जब मैं स्वयं गर्भ से थी, तो मैंने अपने पेट से बाहर कभी कभार एक छोटी सी कोहनी की तरह कुछ चिपका हुआ देखा था या मुझे संदेह होता था। वह उसके कौन से अंग जैसा था क्योंकि यह बहुत बड़ा होता था पर वास्तव में शरीर के किसी विशिष्ट अंग को कभी नहीं देखा। आप निश्चित रूप से अपने बच्चे के हाथों और पैरों को अपने पेट के खिलाफ दबाते हुए महसूस करेंगे, लेकिन बाहर से प्रिंट नहीं देख सकते। ऐसा देख के सोचना मजेदार लग रहा है पर ऐसा होता नहीं है, हालांकि शरीर के अंगो का प्रिंट दिखाने की तो कोई संभावना नहीं लगती।
10. अनाथ सीरिया के लड़के की दुखद फोटो।
सीरियाई विपक्षी नेता अहमद जारबा ने एक शुक्रवार की सुबह एक परेशान करने वाली तस्वीर ट्वीट की जिसमें कथित तौर पर माता-पिता की कब्र के बीच सो रहे एक अनाथ सीरिया के लड़के को दिखाया गया है। उसने यह साबित करने की कोशिश की, कि असद इस सीरियाई लड़के के दुःखी होने के पीछे अपराधी माना जाए। 2014 में अपने माता-पिता की कब्र के बीच सोते हुए एक 'सीरियाई लड़के' की इस तस्वीर को ऑनलाइन व्यापक रूप से साझा किया गया था। तब से यह फोटो ट्विटर पर सांझा किया जा रहा है।
नीचे वाला फोटो असली है:
दरअसल, यह तस्वीर सऊदी अरब में वैचारिक कला परियोजना के हिस्से के रूप में ली गई थी। और असलियत में, यह लड़का अपने जीवन का आनंद ले रहा है। यह युवा सीरियाई लड़का अपने माता-पिता की कब्र के बीच सो नही रहा था। बल्कि यह लड़का तो फोटोग्राफर का भतीजा है और यह सीरियाई भी नहीं है। दोनों तरफ के टीले कब्र नहीं हैं, बस कब्रों की तरह दिखने वाले पत्थरों के टीले है।
आशा है आपको पसंद आएगा।

No comments:

Post a Comment

Enter you Email