25 August 2018

रक्षाबंधन कब है 2018 । रक्षाबंधन शुभ मुहूर्त 2018 । राखी बांधने का शुभ समय रक्षा । बन्धन 2018 । शुभ महूर्त। रक्षाबन्धन मन्त्र एवं भावार्थ । Raksha Bandhan Mantra by Pt VKJ Pandey

रक्षाबंधन कब है 2018 ।  रक्षाबंधन शुभ मुहूर्त 2018 ।  राखी बांधने का शुभ समय रक्षा । बन्धन 2018 । शुभ महूर्त। रक्षाबन्धन मन्त्र एवं भावार्थ । Raksha Bandhan Mantra by Pt VKJ Pandey

rakhi bandhne ka time, rakhi bandhne ka samay, raksha bandhan kab hai, rakhi kab hai, रक्षाबंधन कब है, रक्षाबंधन कब है 2018, राखी बांधने का शुभ मुहूर्त, राखी पूर्णिमा 2018 का मुहूर्त, राखी कब है, २०१८ रक्षा बन्धन, raksha bandhan shubh muhurat 2018, raksha bandhan 2018 in India, raksha bandhan shubh muhurat, raksha bandhan 2018 in India, raksha bandhan date 2018, raksha bandhan 2018 date in india calendar, raksha bandhan kab hai, rakhi 2018, rakhi 2018 date in India, raksha bandhan kitni tarikh ko hai rakhi bandhne ka tarika, rakhi bandhne ka mantra, raksha bandhan in Hindi, information about raksha bandhan, rakhi in Hindi, raksha bandhan, Raksha bandhan mantra, raksha bandhan, raksha bandhan ka mantra, raksha bandhan information, raxa bandhan ke aashirwad ka shlok, rakshabandhan mantra, rakhi mantra, rakchha bhandhan mantra, raksha bandhan kya hai, रक्षा बंधन पर निबंध, रक्षा बंधन 2018, रक्षा बंधन का इतिहास, रक्षाबंधन कब से मनाया जाता है, रक्षा बंधन कब से और क्यों मनाया जाता है, रक्षाबंधन कैसे मनाया जाता है, रक्षा बंधन क्या है, क्यों मनाया रक्षा बंधन, रक्षा बंधन की कहानी, रक्षाबंधन कब मनाया जाता है, रक्षा बंधन पर निबंध


मंत्र
येन बद्धो बलि: राजा दानवेंद्रो महाबल:।
तेन त्वामपि बध्नामि रक्षे मा चल मा चल।
अर्थ
जिस रक्षासूत्र से महान शक्तिशाली राजा बलि को बांधा गया था, उसी सूत्र से मैं तुम्हें बांधता हूं। हे रक्षे (राखी), तुम अडिग रहना। अपने रक्षा के संकल्प से कभी भी विचलित मत होना।



रक्षाबंधन का पर्व सनातन भारतवर्ष में मनाये जाने वाले पवित्र तथा प्रमुख त्योहारों में से एक है। रक्षाबंधन का पर्व भाई व बहन के अतुल्य स्नेह के प्रतीक के स्वरूप में भक्ति एवं उत्साह के साथ मनाया जाता है, जिसमे बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है साथ ही अपने भाई की दिर्ध आयु के लिए प्रार्थना करती हैं तथा भाई अपनी बहनकी रक्षा करने का वचन देता है। हिंदुओ में रक्षाबंधन का पर्व अत्यंत हर्षोल्लास के साथ, धूमधाम से मनाया जाता है। साथ ही सिख, जैन, तथा लगभग सभी भारतीय समुदायों में यह पर्व बिना किसी रुकावट के तथा प्रेम-भाव के साथ मनाया जाता है। रक्षाबंधन के पर्व में रक्षा सूत्र अर्थात “राखी” का सबसे अधिक विशेष महत्व होता है। माना जाता है की “राखी” बहन का अपने भाई के प्रति स्नेह व आदर का प्रतीक होती है। रक्षाबंधन का त्योहार सनातन हिन्दू पंचांग के अनुसार श्रावण मास के पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है जो की अंग्रेजी कलेंडर के अनुसार अगस्त या सितंबर के महीने में आता है। रक्षा बंधन के ठीक आठ दिन के पश्चात भगवान् श्री कृष्ण का जन्मदिन अर्थात श्री कृष्ण जन्माष्टमी का पर्व मनाया जाता है।

इस वर्ष 2018 में, श्रावण शुक्ल पुर्णिमा की तिथि 25 अगस्त, दोपहर 03 बजकर 16 मिनिट से प्रारम्भ हो कर, 26 अगस्त, साँय 05 बजकर 25 मिनिट तक व्याप्त रहेगी।

अतः इस वर्ष 2018 में रक्षा-बंधन का पर्व 26 अगस्त, रविवार के दिन मनाया जाएगा। 

इस वर्ष 2018 में, रक्षाबंधन के त्योहार पर राखी बांधने का सबसे शुभ मुहूर्त- 26 अगस्त, रविवार के दिन, दोपहर 02 बजकर 03 से 03 बजकर 38 मिनिट तक का रहेगा।

यह भी ध्यान रहे की,
१.             रक्षा बन्धन के दिन भद्रा सूर्योदय से पहले समाप्त हो जाने के कारण राखी बांधने का शुभ मुहूर्त प्रातः 06 बजे से ही प्रारम्भ हो जाएगा जो की साँय 5 बजकर 25 मिनिट तक, अर्थात पुर्णिमा तिथि के समाप्ती तक का रहेगा।
२.             वैदिक मतानुसार अपराह्न का समय राखी बांधने के लिये सर्वाधिक उपयुक्त माना गया है, जो कि हिन्दु समय गणना के अनुसार दोपहर के पश्चात का समय होता है।
३.             हिन्दु मान्यताओं के अनुसार सभी शुभ कार्यों के लिए भद्रा का त्याग करना चाहिये अतः भद्रा का समय रक्षा बन्धन के लिये निषिद्ध माना गया है।
४.             यदि दोपहर के समय भद्रा आदि के कारण से उपयुक्त नहीं होता तो साँय काल का समय भी रक्षा बन्धन के संस्कार के लिये उपयुक्त माना गया है।

No comments:

Post a Comment

Enter you Email