18 May 2018

अधिक मास में करे यह चमत्कारी उपाय जिससे परिवार में बनी रहेगी खुशहाली

अधिक मास में करे यह चमत्कारी उपाय जिससे परिवार में बनी रहेगी खुशहाली


अधिक - पुरुषोत्तम मास


अधिकमास को पुरुषोत्तम मास या मलमास के नाम से भी जाना जाता है। यह मास प्रत्येक 3 वर्ष में एक बार आता है। श्रीमद्भागवत पुराण में इस माह को अत्यंत महत्वपूर्ण बताया गया है। सनातन धर्म में अधिकमास में धर्म-कर्म करने का विशेष विधान है। मान्यता है कि इन दिनों में भागवत कथा करने से अक्षय पुण्य प्राप्त है। मलमास में दीपदान, वस्त्र दान एवं ग्रंथ दान तथा श्रीमद् भागवत कथा का विशेष महत्व है। इस मास में दीपदान करने से धन-वैभव के साथ ही आपको पुण्य लाभ भी प्राप्त होता है।

आज हम आपको बताएँगे ज्योतिष शास्त्र के अनुसार अधिक मास में करने वाले सरल, किन्तु अत्यंत चमत्कारी उपाय जिन्हे करने से श्रीकृष्ण भगवान की विशेष कृपा प्राप्त होती है तथा सभी परेशानियां एवं संकट नष्ट हो जाते हैं।

1 पहला उपाय
प्रतिदिन सुबह जल्दी उठें तथा उठते ही दोनों हथेलियां देखें। स्नान के पश्यात तांबे के लोटे से सूर्य को जल अर्पित करे। सूर्य को जल अर्पित करते  समय आदित्याय नम: मंत्र का उच्चारण अवश्य करें।

2 दूसरा उपाय
हनुमानजी के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाएं तथा रामदूताय नम: मंत्र का 108 बार जाप करें।

3 तीसरा उपाय
यदि आप धन लाभ पाना चाहते हैं तो अधिकमास में प्रतिदिन सुबह भगवान विष्णु तथा माता लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए। लक्ष्मी पूजा में दक्षिणावर्ती शंख, हल्दी की गांठ, पीली कौड़ी, गोमती चक्र एवं श्रीयंत्र भी रखें।

4 चौथा उपाय
घर के मंदिर में प्रतिदिन कुछ देर श्रीमद्भागवत का पाठ करें। इस उपाय से श्रीकृष्णजी की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

5 पांचवां उपाय
भगवान कृष्णजी के बाल स्वरूप बाल-गोपाल को माखन-मिश्री का भोग लगाएं। जिससे आपके परिवार को सुख-समृद्धि की प्राप्ति होगी।

6 छठा उपाय
गर्मी के दिनों में शिवलिंग पर ठंडा जल अर्पित करे। इसके लिए चांदी के लोटे का प्रयोग करेंगे तो शुभ रहेगा तथा शीघ्र फल प्राप्त होगा

7 सातवां उपाय
बुधवार के दिन लक्ष्मी-विष्णु पूजा करने के पश्यात घर के मुख्य द्वार पर महालक्ष्मी के चरण चिह्न लगाएं। चरण चिह्न घर के अंदर प्रवेश करते हुए लगाना चाहिए। प्रतिदिन सुबह माता लक्ष्मी के चरणों की पूजा करें।

8 आठवां उपाय
प्रतिदिन सूर्यास्त के पश्यात शिवलिंग के पास घी का दीपक प्रज्वलित करे तथा महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।
मंत्र- भूर्भुवः स्वः त्र्यम्‍बकंयजामहे सुगन्धिंपुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्‍धनान् मृत्‍योर्मुक्षीय मामृतात्।

9 नौवां उपाय
प्रतिदिन सुबह पहली रोटी गाय-माता को खिलाएं तथा मछलियों को आटे की गोलियां खिलाएं।

10 दसवां उपाय
प्रतिदिन सुबह घर से बाहर जाते समय श्री गणेशजी के दर्शन करें तथा इसके पश्यात किसी भी काम की शुरुआत करें, अवश्य सफलता प्राप्त होगी
 
पुरुषोत्तम मास में क्या करें

No comments:

Post a Comment

Enter you Email