04 April 2017

भगवान श्री राम की पूजा विधि



श्री राम पूजा विधि
नमस्कार भक्तो! में विनोद पांडे आपका हार्दिक स्वागत करता हु,
दोस्तों, मर्यादापुरुषोत्तम श्री राम हम सभी के जीवन के लिए आदर्ष हैं इस लिए भगवान श्री राम का पूजन हर घर मैं अवश्य करना चाहिए! इस लिए, आज हम आपको सही पूजन विधि बताएँगे जिस से आप के द्वारा किया गया पूजन श्री राम जी के चरणकमलो में प्रेम और भक्ति प्रदान करे!
श्रोतागण आप सुबह स्नान कर ले तथा साफ़ सुथरे वस्त्र धारण कर ले, उस दिन घर की औरतो को चाहिए की वे हलवा पूरी एवं खीर अवश्य बनाये तथा उसे प्रसाद के रूम में भगवन श्री राम को चढ़ायें तथा व्रत ख़तम होने के बाद प्रसाद के रूप में इसे ग्रहण करे तथा आपके आस-पडोस के लोगो को भी दे!

भगवान श्री राम की पूजा विधि

पूजा के लिए आवश्यक सामग्री-
१ चौकी,
२ मीटर लाल वस्त्र ,
कप अक्षत (कच्ची अबाधित चावल),
भगवान श्रीगणेश की १ मूर्ति या तस्वीर,
कुछ तुलसी पत्र,
श्री राम दरबार या भगवान सीता राम जी का १ तस्वीर,
धूपबत्ती या अगरबत्ती,
घी से भरा हुवा दीपक,
कुछ फूल-माला,
मिठाइयाँ (प्रसाद),
पवित्र धागा (मोली),
पवित्र जल तथा पात्र,
चंदन या अष्टगन्ध या  रोली




1.   उपरोक्त सभी सामग्री को पूजा के स्थान पर ले आए।
2.   चौकी पर अच्छी तरह से लाल कपड़ा बिछा दे।
3.   चौकी पर श्री राम दरबार या भगवान सीता राम जी की तस्वीर को स्थापित करे।
4.   अब श्री राम के तस्वीर के सामने गणेश महाराज की स्थापना के लिए अक्षत के साथ अष्टदल कमल की आकृति बनायें।
5.   अष्टदल कमल पर भगवान गणेश की मूर्ति स्थापित करे।
6.   पहले श्रीगणेश की पूजा करें:
उन्हें नमस्कार करते हुए भगवान गणेश से प्रार्थना करें की, "हे भगवान गणेश! कृपया पूजा के स्थान पर पधारे और भगवान राम जी की पूजा से सभी बाधाएं दूर करें!"
अब, पवित्र जल छिड़ककर भगवान गणेश जी को स्नान कराये!
पवित्र धागा वस्त्रके रूप में अर्पण करें
अब पंचोपचार से भगवन गणेश जी की पूजा करे
भगवान गणेश के मस्तक पर चंदन या रोली का तिलक लगाये, दीपक जला कर पूजा करे, धुप या अगरबत्ती दिखाए, फूल चढ़ाये , मिठाई का भोग लगाये और पिने के लिए शुद्ध जल का अर्पण करे ।
7.   अब श्रीराम पूजा करें
उन्हें नमस्कार करते हुए प्रार्थना करें की,
भगवान श्रीराम, माता सीता, लक्ष्मण, भरत एव  शत्रुघ्न तथा श्रीहनुमान जी आप सभी देवगण मेरी पूजा हेतु पधारे।




अब पंचोपचार से भगवन राम जी की पूजा करे
सभी देवगण के मस्तक पर चंदन या रोली का तिलक लगाये, दीपक जला कर पूजा करे, धुप या अगरबत्ती दिखाए, फूल चढ़ाये , मिठाई का भोग लगाये और पिने के लिए शुद्ध जल का अर्पण करे।
भगवान राम के लिए विशेष रूप से “तुलसी पत्र” का भोग लगाये
उन सभी को नमस्कार करके इस श्लोक का उच्चारण करे, "श्री सीता लक्ष्मण भरत शत्रुघ्न हनुमत समेताय श्री रामचन्द्राय नमः।"
अब भगवान राम का ध्यान लगाये तथा इस मंत्र का उच्चारण करे "राँ रामाय नमः" या "ॐ रामाय नमः"
इस मंत्र का जप ध्यान लगाकर कम से कम 108 बार या यथाशक्ति के अनुसार करे।
मंत्र का जप करने के बाद भगवान राम से प्रार्थना करे और कहे की "हे भगवान राम! मैं यह जप आपके चरणकमलो को समर्पित करता हूं। कृपया इसे प्राप्त करें।"
8.   अब विसर्जन करें:

अपने दाहिने हाथ से फूल और अक्षतें चोकी पर छोड़ते हुए कहे की "पूजा के स्थान पर पधारने के लिए कोटि कोटि धन्यवाद, कृपया हमारी पूजा ग्रहण करें और अपने दिव्यलोक को प्रस्थान करे।"

इस तरह से भगवान राम पूजा विधि पूर्ण होती है!

मैं आपको राम नवमी की हार्दिक शुभकामनाएं देता हु, तथा आशा करता हूं कि भगवान राम आपकी पूजा से प्रसन्न होंगे।
धन्यवाद, कृपया चेनल को सब्सक्राइब ज़रूर करे, विडियो को शेयर करे तथा आपके सुजाव कमेन्ट बॉक्स में लिखे

No comments:

Post a Comment

Enter you Email