29 December 2016

दुर्जन व्यक्ति का त्याग करे || श्लोक

दुर्जन व्यक्ति का त्याग करे | 





दुर्जनः परिहर्तव्यो विद्ययालङ्कृतोअपि सन्।

मणिना भूषितः सर्पः किमसौ न भयंकरः ।।


 

 

अर्थ :-

विद्या से विभूषित होने पर भी दुर्जन त्याग करने योग्य है। मणि से अलङ्कृत होने पर भी वह सर्प क्या भयंकर नहीं होता है अर्थात् अवश्य होता है |

          जैसे उच्च कुल में जन्म लेने तथा महान विद्वान व् शक्तिशाली होने के बावजूद भी रावण को हिन्दू समाज ने स्वीकार नहीं किया ।

          उसी प्रकार मानव की हत्या करने वाले  आतंकवादी विचारधारा को समर्थन और सम्मान करने वाला समुदाय खुद अपना सर्वनाश रावण की तरह कर लेगा यह विश्वास रखिये ।

 

 

सज्जन अच्छे मित्रों के लक्षण || श्लोक

सज्जन अच्छे मित्रों के लक्षण

 श्लोक :-


पापान्निवारयति योजयते हिताय,

गुह्यं निगूहति गुणान् प्रकटीकरोति।

आपद्गतं च न जहाति ददाति काले,

सन्मित्रलक्षणमिदं प्रवदन्ति सन्तः।।






अर्थ :-

सज्जन अच्छे मित्रों का लक्षण यह बतलाते हैं कि अच्छा मित्र मनुष्य को पाप कर्म से रोकता है, हितकारी कार्यों में लगाता है, गुप्त बातों को छिपाता है, गुणों को प्रकट करता है, आपत्तिग्रस्त होने के समय साथ नहीं छोड़ता है और समय पड़ने पर सहायता प्रदान करता है।

 

 - धन्यवाद

 

 

 

 

19 December 2016

विध्यार्थी श्लोक मन्त्र - काक चेष्टा भावार्थः सहित

  विध्यार्थी श्लोक मन्त्र



काक चेष्टा , बको ध्यानं,

स्वान निद्रा तथैव च । 

अल्पहारी, गृहत्यागी, 

विद्यार्थी पंच लक्षणं ।

  

 





भावार्थः :-

१.             एक विध्यार्थी की कामयाब होने की कोशिशें उस कौवे की तरह होनी चाहिए, जिसने तिनका तिनका जोड़ के जलपात्र की सतह से पानी ऊपर लाया था।

.           विध्यार्थी  का ध्यान बगुले की तरह होना चाहिए, जो अपनी एक टांग पर कई देर तक खड़े हुए अपने आहार उस मछली की प्रतीक्षा करता है और अंत में सफल होने तक अपना सारा ध्यान अपने लक्ष्य पर ही केंद्रित रखता है

३.           विध्यार्थी  की निंद्रा उस स्वान (कुत्ते) की तरह होनी चाहिए की जो हल्की सी भी हलचल से तुरंत जाग जाता है, और सदैव पूरी तरह से चौकन्ना रहता है। 

४.           विध्यार्थी  सदैव अपनी आवश्यकता के अनुसार ही कहना चाहिए, कदापि आवश्यकता से अधिक नहीं कहना चाहिए। अधिक आहार ग्रहण करने से मोटापा, बीमारी, आलास तथा बुद्धिहीनता अति है। 

५.           विध्यार्थी  अपनी पढाई अपने घर के सुखद एवं  आरामदायक जगह से दूर जा के करे, तो उसके सफल होने की संभावनाएं अधिक बढ़ जाती है। परंतु, अगर वह अपने घर पर ही रह के अभ्यास करना चाहे तो माता, पिता एवं परिजनों को उसे पूर्ण सहयोग देना चाहिए तथा विध्यार्थी  की आसपास का माहोल पढ़ने के योग्य बनाने में अपना पूर्णरूप से योगदान प्रदान करे।

 

                                 - धन्यवाद् 

 



  • छात्रों के लिए एक प्रेरणास्प्रद कविता :-


बच्चो पढ़ाई है सुखदायी ,

मिले इस से तुमको बढ़ायी।

पहले थोड़ा कष्ट उठाओ,

फिर बाकि दिन आनंन्द उठाओ॥



16 December 2016

Individualities of a student with meaning in English

Individuality of a Student !

  Kaak chesta bako dhyaanam!


Kaak cheshta bako dhyaanam,

Swan Nindra tathaiwa cha;!

Alpahaari, grihatyaagi,

Vidhyaarthi paanch lakshnam !!






       Meaning :-

       Efforts should be similar to a crow, Focus on the work like a crane, take alert sleep similar to that of a dog,
 
     A student should have these characteristics besides he should eat a bit less and  as far as possible, stay away from the sweet home (may be stay in a hostel) !





  • Crow :-    Repetitive,  remember story of a crow trying to drink water from a pot, while placing pieces of stones to raise the water level.







  •   In addition, there is one more motivating poem:


Bachcho padhna hei Sukhdayee, 

Meelay is se tumko Badhaai, 

Pehle thoda Kashtt uthwo,

fir Baaki Deen Aanad uthawo !

 

15 December 2016

अच्छी निंद्रा के लिए श्लोक - मन्त्र क्रमांक १

निंद्रा के समय का श्लोक - मंत्र  





राम स्कन्धं हनुमतं ।

वैनतेयं वृकोदरम् ॥

शयनेय स्मरनित्यम् ।

दुस्वप्नम् तस्यनस्यति ॥

 




भावार्थः   :-

     हम प्रतिरात्रि भगवान श्री हनुमान जी, गरुड़ भगवान एवं वीर भीम जी को याद करते है कि  वे हमें रात्रि में आने वाले ख़राब सपनो से हमारी रक्षा करे । 



  श्लोक का महत्व :-


      आम तौर पर आरामदायक निंद्रा  , अच्छे सपने और अच्छी रात्रि के लिए यह मंत्र पढ़ना चहिये। यह श्लोक रात्रि में कभी अशुभ स्वप्न नहीं  आने देता ।

               

      जिसके फलस्वरूप हमारी सामान्य जीवनचर्या और सभी काम बहुत ही आसानी से और सफलतापूर्ण पूरे होते है ।

 

 








11 December 2016

Bed Time Prayer - Shlok No#1 in English

Shlok before going to bed

"Ramaskandam hanumantham vainatheye rukodaram,


Shayaneye smaren nithyam dus swapnam thasya nasyathi"



 

 

 

Meaning:- We pray every night to lord Shri Hanuman ji vynatheya (garuda) and Vrukodhara (Bheema) all the brave people to remove all bad dreams.








Importance of this Shlok :-


     Basically praying for Peaceful Sleep, Sweet dreams and  Good Night. To be delicate, it is a prayer for bypass bad dreams.

     

 Thus, we see that even normal everyday activities can be done with more effectively and sincerity by proceeding the Shlok.

10 December 2016

The Secrets of Maa Kamakhya Devi Temple, Assam (The Shakti Peeth) in English

Maa Kamakhya Devi Temple









  •      The Maa Kamakhya Devi Temple is a Hindu temple, situated in Assam, India dedicated to the Goddess Maa Kamakhya Mata, one of the oldest Shakti Peeths of the World.

  •       There are so many unheard and true tales about the temple, here is the hidden secrets of Maa Kamakhya Devi temple you might have never heard of. 


Legend


     Goddess Sati wedded Lord Shiva against the wish of her father (king Daksha). Once king Daksha was having a "Yagna", but he didn’t gave invitation Sati and Shiva. Sati was very disappointed, but she still went to her father’s palace. When she reached there, her father  hurt her and insulted Lord Shiva. Sati was unable to bear this disrespect for her husband Lord Shiva, so she jumped in the "Yagna" fire and killed herself.

     When Lord Shiva came to know about this, he got very angry. Enraged Shiva wondered while holding the dead body of Maa Sati in his arms. He started the dance (Tandava) of destruction of the universe. Lord Vishu in order to save the universe, cut the body of Sati into pieces with his Sudarshan chakra. Body parts of Sati fell at different places and these places are known as the "Shakti Peeths".

Secrets of Maa Kamakhya Devi Temple


1.     Kamakhya Temple, Assam is one among the 52 shakti peeths of the World. Kamakhya Temple is situated at the top of "Ninanchal Hill" (811 feet above sea level) in the Western part of Guwahati, Assam. There is no image of Shakti here within a corner of the cave in the temple, there is sculptured image of the oni of the goddess, which is the object of reverence. A natural spring keeps the stone moist. Other temples on the Ninanchal Hill include those of Tara, Bhairavi, Bhuvaneshwari and Ghantakarna. 

2.     The temple was destroyed in the 16th century and then rebuilt in the 17th century by king "Nara Narayana" of Cooch Bihar.

3.     The current temple has a beehive-like Shikhara with delightful sculptured panels and images of Ganesha and other Hindu Gods and Goddesses on the outside. 

4.     The temple consists of three major chambers. The western chamber is large and rectangular and is not used by general pilgrims for worship. The middle chamber is a square with a small idol of the Goddess, a later addition. The walls of this chamber contain sculpted images of Nara Narayana, related inscriptions and other Gods.

5.     The middle chamber leads to the sanctum of the temple in the form of a cave, which consists of no image, but a natural underground spring that flows through a yoni-shaped cleft in the bedrock.


6.     In Kamakhya temple, yoni of the Goddess fell. 

7.     Naraka took it as a challenge and tried all with his might to do this marathon task. He was almost about to accomplish the job when the Devi, panic-stricken as she was to see this, played a trick on him. She strangled a cock and made it crow untimely to give the impression of dawn to Naraka. Duped by the trick, Naraka thought it was a futile job and left it half way through. Later he chased the cock and killed it in a place which is now known as Kukurakata, situated in the district of Darrang. The incomplete staircase is known as Mekhelauja path. 




Story about the stair case of the temple



      There was a demon Naraka who fell in love with Goddess Kamakhya and wanted to marry her. Goddess put a condition that if he would be able to build a staircase from the bottom of the Ninanchal Hill to the temple within one night, then she would surely marry him. 


  •      Apart from the daily puja offered to Kamakhya Devi, many types of special pujas are also held round the year in Kamakhya Temple. These pujas are Durga Puja, Pohan Biya, Durgadeul, Vasanti puja, Madandeul, Ambuvaci and Manasa puja.




Durga Puja:- Durga Puja is celebrated every year during the month of September-October, also known as “Navratri”.



Ambubachi Puja:- This is also an annually celebrated fertility festival of Maa Kamakhya Devi. It is assumed that the Goddess experience menstrual during the period and the temple remains closed for 3 days and then opened with great festivity on fourth day called Ambubachi Mela.



Pohan Biya:- This festival is celebrated as symbolic marriage between Lord Kamesvara and Kamesvari Devi during the Hindi month of Pausha during December-January.



Vasanti Puja:- Vasanti puja is carried out at Kamakhya Devi temple in the Hindi month of Chaitra or during March-April.



Manasha Puja:- This Puja is performed from Sankranti and continues up to the second day of Bhadrapad. 

Durgadeul:- During the month of Phalguna, Durgadeul is observed in Kamakhya.  Madandeul:- This deul is observed during the month of Chaitra when Lord Kamadeva and Kamesvara is offered special puja. 

Lord Shri Ganesha Shloka Mantra with meaning , भगवान श्री गणेश जी के श्लोक मंत्र एवं अर्थ

                Ganesha Shlok  

Vakra-Tunndda Maha-Kaaya Suurya-Kotti Samaprabha |
Nirvighnam Kuru Me Deva Sarva-Kaaryessu Sarvadaa ||


गणेश श्लोक

वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ
निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा


Meaning :- O Lord Ganesha, of Curved Trunk , Large Body, and with the Brilliance of a Million Suns,

Please, Make All my Works Free of Difficulties , Always

 

अर्थ :-    हे टेढ़ी सूँड वाले , हे विशाल देह वाले, करोड़ों सूर्यों जैसे दीप्त भगवान  !  मेरे सब कार्य (आपकी कृपा से) सदा निर्विघ्न रूप से पूर्ण हों।

 

तथ्य :-  शुभ कारी गणेश शंकर एवं देवी पार्वती के पुत्र हैं। यह स्वयं बुद्धि का प्रतीक हैं। ऋद्धि(समृद्धि) और सिद्धि(अध्यात्म) इमकी धर्मपत्नियाँ है। लाभ (ऋद्धि से) और शुभ (सिद्धि से) इनके दो पुत्र हैं। किसी भी शुभ कार्य में सर्वप्रथम इनकी पूजा का चलन है। इनके प्रमुख आठ अवतार माने जाते हैं। अंत: भगवान श्री गणेश जी को अष्टविनायक कहा जाता है।

07 December 2016

Aachary Chanakya Biography आचार्य चाणक्य की जीवनी


Aachary Chanakya Biography    

 आचार्य चाणक्य की जीवनी

        आचार्य चाणक्य        




           आचार्य चाणक्य जी का जन्म एक बहुत ही  निर्धन परिवार में हुआ था.  वे अपने उग्र और गूढ़ स्वभाव के कारण वे ‘कौटिल्य’ भी कहलाये. उनका एक नाम संभवत: ‘विष्णुगुप्त’ भी था. चाणक्य ने उस समय के महान शिक्षा केंद्र ‘तक्षशिला’ में शिक्षा पाई थी. 14 वर्ष के अध्ययन के बाद 26 वर्ष की आयु में उन्होंने अपनी समाजशास्त्र, राजनीती और अर्थशास्त्र की शिक्षा पूर्ण की और नालंदा में उन्होंने शिक्षण कार्य भी किया. वे राजतंत्र के प्रबल समर्थक थे. उन्हें ‘भारत का मेकियावली’ के नाम से भी जाना जाता है.

ऐसी किंवदन्ती है कि एक बार मगध के राजदरबार में किसी कारण से उनका अपमान किया गया था, तभी उन्होंने नंद – वंश के विनाश का बीड़ा उठाया था. उन्होंने चन्द्रगुप्त मौर्य को राजगद्दी पर बैठा कर वास्तव में अपनी प्रतिज्ञा पूरी कर ली तथा नंद – वंश को मिटाकर मौर्य वंश की स्थापना की. चाणक्य देश की अखण्डता के भी अभिलाषी थे, इसलिये उन्होंने चंद्रगुप्त व्दारा यूनानी आक्रमणकारियों को भारत से बाहर निकलवा दिया और नंद – वंश के अत्याचारों से पीड़ित प्रजा को भी मुक्ति दिलाई.

आचार्य चाणक्य भारतीय इतिहास के सर्वाधिक प्रखर कुटनीतिज्ञ माने जाते है. उन्होंने ‘अर्थशास्त्र’ नामक पुस्तक में अपने राजनैतिक सिध्दांतों का प्रतिपादन किया है, जिनका महत्त्व आज भी स्वीकार किया जाता है. कई विश्वविद्यालयों ने कौटिल्य (चाणक्य) के ‘अर्थशास्त्र’ को अपने पाठ्यक्रम में निर्धारित भी किया है.

महान मौर्य वंश की स्थापना का वास्तविक श्रेय अप्रतिम कूटनीतिज्ञ चाणक्य को ही जाता है. चाणक्य एक विव्दान, दूरदर्शी तथा दृढसंकल्पी व्यक्ति थे और अर्थशास्त्र, राजनीति और कूटनीति के आचार्य थे.

चाणक्य का नाम राजनीती, राष्ट्रभक्ति एवं जन कार्यों के लिए इतिहास में सदैव अमर रहेगा. लगभग 2300 वर्ष बीत जाने पर भी उनकी गौरवगाथा धूमिल नहीं हुई है. चाणक्य भारत के इतिहास के एक अत्यन्त सबल और अदभुत व्यक्तित्व हैं. उनकी कूटनीति को आधार बनाकर संस्कृत में एक अत्यन्त प्रसिध्द ‘मुद्राराक्षस’ नामक नाटक भी लिखा गया है.

मृत्युं   –  ईसा.पूर्व. 225

Enter you Email